ऑफिस से छुट्टी मांगना पड़ा भारी, बीवी को मनाने के लिए लिया था 3 दिनों का अवकाश, अब खतरे में नौकरी

job
Unsplash
निधि अविनाश । Aug 24, 2022 3:20PM
शमशाद की नौकरी साल 2007 से हाई कोर्ट के स्टे पर चल रही थी और उन्हें ये नौकरी अपने पिता के अनुकंपा के आधार पर मिली थी। विभाग में शमशाद के जन्मतिथि को लेकर कोई परेशानी चल रही थी जिसको लेकर एंटी करप्शन विभाग ने जांच में शमशाद के खिलाफ केस दर्ज किया था।

कानपुर में अपनी रूठी पत्नी को मनाने के लिए एक शख्स ने 3 दिनों की छुट्टी ली। लेकिन ये छुट्टी अब इस शख्स पर बहुत भारी पड़ गई है। शमशाद शिक्षा विभाग में कार्यरत है और उनकी अपनी पत्नी के साथ झगड़ा हो गया था जिसको मनाने के लिए उन्होंने 3 दिनों की छुट्टी ली थी लेकिन अब उनकी नौकरी खतरे में पड़ गई है।
नौकरी से क्यों निकाला
जानकारी के लिए बता दें कि शमशाद की नौकरी साल 2007 से हाई कोर्ट के स्टे पर चल रही थी और उन्हें ये नौकरी अपने पिता के अनुकंपा के आधार पर मिली थी। विभाग में शमशाद के जन्मतिथि को लेकर कोई परेशानी चल रही थी जिसको लेकर एंटी करप्शन विभाग ने जांच में शमशाद के खिलाफ केस दर्ज किया था। इस दौरान शमशाद हाई कोर्ट के स्टे में नौकरी करने लगे और इस दौरान शमशाद और विभान ने हाई कोर्ट से आए ऑर्डर को नजरअंदाज कर दिया। हाईकोर्ट के ऑर्डर को नजरअदांज करने के कारण शमशाद का स्टे ऑर्डर कोर्ट ने हटा दिया जिससे उसकी नौकरी खतरे में आ गई।

इसे भी पढ़ें: बंगाल में दुर्गा पूजा कमेटियों को CM ममता के ग्रांट का विरोध, हाईकोर्ट में मामला दायर

कानपुर के शिक्षा अधिकारी सुरजीत सिंह ने कहा कि उनके पास कोर्ट की तरफ से कोई भी नोटिस नहीं आया है और नोटिस या आदेश आने के बाद सबसे पहले ये शिक्षा मुख्यालय जाता है और फिर विभाग के पास पहुंचता है। अगर कोर्ट का आदेश आ गया तो आगे की कारवाई की जाएगी। वहीं शमशाद का कहना है कि अगर कोर्ट का ऐसा आदेश आता है तो हम उसका पूरी तरह से पालन करेंगे।

अन्य न्यूज़