मेरठ के सरधना में खेल विवि के साथ टूरिज्म सेंटर की सौगात

 मेरठ के सरधना में खेल विवि के साथ टूरिज्म सेंटर
Rajeev Sharma । Aug 26, 2021 11:27AM
मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में चार खेल विवि बनाने की घोषणा की है। मेरठ के सरधना में खेल विवि की घोषणा पहले ही हो चुकी थी। मेजर ध्यानचंद के नाम पर यह खेल विवि बनेगा। 700 करोड़ रुपये की लागत से खेल विवि का निर्माण होगा।

मेरठ, उत्तर प्रदेश के मेरठ में स्पोर्ट्स यूनिवर्सिटी के साथ स्पोर्ट्स टूरिज्म सेँटर भी विकसित किया जाएगा। खेल विवि से अलग एक टूरिज्म सेंटर बनेगा जहां खेल उत्पादों की प्रदर्शनी, स्पोर्ट्स गार्डन और मिनी एम्यूजमेंट पार्क बनाया जाएगा। मेरठ में पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए इस स्पोर्ट्स टूरिज्म सेंटर को विकसित किया जाएगा। खेल विवि के समानांतर ही टूरिज्म सेंटर का काम चलेगा। खेल विवि की जमीन विभाग को मिल चुकी है।

  मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश में चार खेल विवि बनाने की घोषणा की है। मेरठ के सरधना में खेल विवि की घोषणा पहले ही हो चुकी थी। मेजर ध्यानचंद के नाम पर यह खेल विवि बनेगा। 700 करोड़ रुपये की लागत से खेल विवि का निर्माण होगा। प्रदेश के पहले और अति आधुनिक बनने जा रहे इस खेल विवि में शोध होने के साथ ही कालेजों को मान्यता व संबद्धता भी प्रदान की जाएगी। इससे जहां खेल पर शोध बढ़ेंगे वहीं कालेजों में खेल गतिविधियां बढ़ाने के साथ ही इंडस्ट्री बेस्ड ट्रेनिंग कराना भी आसान होगा। इसका सीधा लाभ शिक्षार्थियों को ही मिलेगा।खेल विश्वविद्यालय से अलग विकसित पर्यटन केंद्र में खेल उत्पादों की प्रदर्शनी, स्पोर्ट्स गार्डन और मिनी एम्यूजमेंट पार्क बनाया जाएगा।

कमिश्नर सुरेंद्र सिंह ने बुधवार को मेरठ के सलावा गांव में खेल विवि प्रोजेक्ट को लेकर उच्चस्तरीय बैठक की।बैठक में खेल विवि के लिए कटने वाले पेड़ों की शिफ्टिंग पर चर्चा हुई । साथ ही खेल विवि के समानांतर पर्यटन सेंटर विकसित होना है उस पर बात योजना की तैयारी को लेकर निर्देशित किया गया । 3 हेक्टेयर जमीन में बनने वाले इस टूरिज्म सेंटर के लिए अलग से जमीन का प्रस्ताव बनाकर शासन को भेजा जा चुका है। कमिश्नर ने डीएम को मॉनिटरिंग की जिम्मेदारी सौंपी है, शासन से स्वीकृति मिलते ही इस पर काम शुरू होगा। इसमें क्षेत्रीय क्रीड़ाधिकारी ने बताया कि विवि के लिए 39.3409 हेक्टेयर भूमि प्रस्तावित है। फिलहाल, 36.9813 हेक्टेयर जमीन खेल विभाग को हस्तांतरित कर दी गई है। वहीं, करीब तीन हेक्टेयर जमीन वन विभाग को हस्तांतरित की गई है, जिसे पर्यटन विभाग को दिया जाना है। 

बैठक में डीएम के. बालाजी, एडीएम प्रशासन सत्यप्रकाश, एसडीएम मेरठ संदीप भागिया, डीएफओ राजेश कुमार, एमडीए सचिव प्रवीणा अग्रवाल, सिंचाई विभाग के एसई अमिताभ कुमार, आरएसओ गदाधर बारीकी, क्षेत्रीय प्रदूषण नियंत्रण अधिकारी डा. योगेन्द्र कुमार और एमडीए के टाउन प्लानर गोर्की मौजूद रहे।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़