आडवाणीजी के साथ हुए व्यवहार का लोग देंगे उचित जवाब: शत्रुघ्न सिन्हा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 25, 2019   10:45
आडवाणीजी के साथ हुए व्यवहार का लोग देंगे उचित जवाब: शत्रुघ्न सिन्हा

शत्रुघ्न सिन्हा ने दावा किया कि गांधीनगर के मौजूदा सांसद अडवाणी को टिकट ना देकर पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को टिकट देने का भाजपा का फैसला कई लोगों को रास नहीं आया।

पटना। अभिनेता से राजनेता बने शत्रुघ्न सिन्हा ने प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी पर पार्टी के वरिष्ठ नेता एल के अडवाणी के साथ दर्दनाक और शर्मनाक तरीके से पेश आने का आरोप लगाया है। सिन्हा पटना साहिब से भाजपा के मौजूदा सांसद है लेकिन पार्टी ने उन्हें आगामी लोकसभा चुनाव में टिकट नहीं दिया है। सिन्हा ने शनिवार को सिलसिलेवार ट्वीट में दावा किया कि गांधीनगर के मौजूदा सांसद अडवाणी को टिकट ना देकर पार्टी अध्यक्ष अमित शाह को टिकट देने का भाजपा का फैसला कई लोगों को रास नहीं आया।

इसे भी पढ़ें: होली पर शत्रुघ्न सिन्हा ने खारिज किया ‘मैं भी चौकीदार’ अभियान, बोले- मैं PM के साथ हूँ

उन्होंने ट्वीट किया कि सर जी... चिंताजनक, दर्दनाक और कई लोगों के अनुसार शर्मनाक भी... जो आपके लोगों ने किया वह अपेक्षित एवं प्रतीक्षित था...सबसे सम्मानित दोस्त, दार्शनिक, मार्गदर्शक, पिता तुल्य और पार्टी के परम नेता श्री एल के आडवाणी को राजनीति से इस तरह गुप्त तरीके से निकालना...। अडवाणी (91) गृह मंत्री और उप प्रधानमंत्री के तौर पर अपनी सेवाएं दे चुके हैं। वह एक से अधिक बार भाजपा के अध्यक्ष भी रहे।

इसे भी पढ़ें: BJP उम्मीदवारों के नाम तय, शत्रुघ्न सिन्हा का टिकट काट कर रविशंकर प्रसाद को दिया

सिन्हा ने कहा कि श्री आडवाणी के स्थान पर उस व्यक्ति को लाना जो कि पार्टी का अध्यक्ष ही है... और जिसकी छवि या व्यक्तित्व का उनसे कोई मेल ही नहीं है। बागी नेता ने दावा किया, ‘यह सोच समझकर और जानबूझकर किया गया है। आपने और आपके लोगों ने जो मेरे साथ किया वह फिर भी सहनीय था। मैं आपको आपकी ही भाषा में जवाब देने में सक्षम हूं। न्यूटन का तीसरा नियम याद है...हर क्रिया की समान एवं विपरीत प्रतिक्रिया होती है।’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।