पश्चिम बंगाल के अलीपुरद्वार में यौन उत्पीड़न के बाद आदिवासी लड़की की मौत

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 11, 2022   17:50
पश्चिम बंगाल के अलीपुरद्वार में यौन उत्पीड़न के बाद आदिवासी लड़की की मौत
prabhasakshi

पश्चिम बंगाल के अलीपुरद्वार जिले के एक अस्पताल में कथित तौर पर यौन उत्पीड़न का शिकार हुई एक आदिवासी नाबालिग की बुधवार को मौत हो गई। पुलिस ने यह जानकारी दी।

अलीपुरद्वार (पश्चिम बंगाल)। पश्चिम बंगाल के अलीपुरद्वार जिले के एक अस्पताल में कथित तौर पर यौन उत्पीड़न का शिकार हुई एक आदिवासी नाबालिग की बुधवार को मौत हो गई। पुलिस ने यह जानकारी दी। उन्होंने बताया कि चाय के बागान में अपने परिवार के साथ रहने वाली नाबालिग की कालचीनी प्रखंड के लताबारी ग्रामीण अस्पताल में इलाज के दौरान अत्यधिक रक्तस्राव के कारण मौत हो गयी। पुलिस अधिकारी ने कहा, 28 अप्रैल को जब पीड़िता अपने घर में अकेली थीं तो एक पड़ोसी ने उसका यौन उत्पीड़न किया। पीड़िता की मां बीमार थीं और उन्हें अस्पताल में भर्ती करवाया गया था, जबकि पिता कमाने के लिए घर से बाहर रहते थे। नाबालिग के बीमार होने पर परिजन उसे इलाके में एक झोलाछाप चिकित्सक के पास ले गए।

इसे भी पढ़ें: MP में OBC आरक्षण को लेकर सियासत तेज, CM शिवराज और नरोत्तम मिश्रा को अचानक बुलाया गया दिल्ली

पुलिस ने बताया कि नाबालिग की हालत लगातार बिगड़ती जा रही थी और मंगलवार की रात उसे ग्रामीण अस्पताल में भर्ती कराया गया। अस्पताल के अधिकारियों ने कहा कि अत्यधिक रक्तस्राव के बाद बुधवार सुबह उसकी मौत हो गई। पुलिस अधीक्षक वाई रघुवंशी ने कहा कि शव के पोस्टमार्टम के बाद हमले की प्रकृति स्पष्ट होगी। पीड़िता की मां ने कहा कि जैसे ही आरोपी ने उसे छूने की कोशिश की नाबालिग ने उसके हाथ पर काट लिया। इसके बाद आरोपी ने पीड़िता की पिटाई कर दी। मां ने कहा, जब हम रात करीब 11 बजे बेटी को अस्पताल ले गए तो उसके शरीर से हर जगह से खून बह रहा था।

इसे भी पढ़ें: गर्लफ्रेंड के जन्मदिन पर दिखा Munawar Faruqui का रोमांटिक अंदाज, बाहों में बाहें डालकर किस करते आये नजर

चिकित्सकों ने उसे ऑक्सीजन देने की कोशिश की, लेकिन वह काम नहीं कर सका। उन्होंने कहा, हम आरोपियों के लिए कड़ी सजा चाहते हैं। पुलिस ने 25 वर्षीय पड़ोसी को गिरफ्तार कर लिया है। घटना से चाय बागान क्षेत्र में तनाव की स्थिति पैदा हो गई। पुलिस ने कहा मामले की जांच की जा रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।