उमर अब्दुल्ला की तस्वीर देख व्यथित हुए स्टालिन, सरकार से की तत्काल रिहाई की मांग

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 27, 2020   16:15
उमर अब्दुल्ला की तस्वीर देख व्यथित हुए स्टालिन, सरकार से की तत्काल रिहाई की मांग

द्रमुक अध्यक्ष एम के स्टालिन ने सोमवार को कहा कि वह नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला की वह तस्वीर देखकर बेहद व्यथित हैं जिसमें वह बढ़ी हुई दाढ़ी में नजर आ रहे हैं। स्टालिन ने उनकी रिहाई की मांग करते हुए ट्वीट किया, “उमर अब्दुल्ला की यह तस्वीर देखकर बेहद व्यथित हूं”।

चेन्नई। द्रमुक अध्यक्ष एम के स्टालिन ने सोमवार को कहा कि वह नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता उमर अब्दुल्ला की वह तस्वीर देखकर बेहद व्यथित हैं जिसमें वह बढ़ी हुई दाढ़ी में नजर आ रहे हैं। साथ ही स्टालिन ने मांग की कि केंद्र सरकार जम्मू कश्मीर में हिरासत में चल रहे सभी नेताओं को तत्काल रिहा करे। स्टालिन ने उनकी रिहाई की मांग करते हुए ट्वीट किया, “उमर अब्दुल्ला की यह तस्वीर देखकर बेहद व्यथित हूं”। उन्होंने ट्वीट के साथ कश्मीरी नेता की तीन तस्वीरें भी टैग कीं। 

इसे भी पढ़ें: उमर अब्दुल्ला की नयी फोटो पर ममता बनर्जी का बयान, कहा- स्थिति को दुर्भाग्यपूर्ण

उन्होंने कहा, “फारुक अब्दुल्ला, महबूबा मुफ्ती और अन्य कश्मीरी नेताओं के लिये समान रूप से चिंतित हूं जो बिना मुकदमे या तय प्रक्रिया के पालन के हिरासत में हैं। केंद्र सरकार को तत्काल सभी राजनीतिक बंदियों को बरी करना चाहिए और घाटी में सामान्य हालात बहाल करने चाहिए।” द्रमुक जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 के रद्द होने के बाद से हिरासत में चल रहे सभी कश्मीरी नेताओं की लंबे समय से रिहाई की मांग करता रहा है।

इसे भी पढ़ें: जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्रियों को किसी ने ‘राष्ट्र विरोधी’ नहीं कहा: अमित शाह

ट्विटर पर 25 जनवरी को उमर अब्दुल्ला की एक तस्वीर नजर आई थी जिसमें वह लंबी अधपकी दाढ़ी में नजर आ रहे थे और उन्हें देखकर पहचानना बेहद मुश्किल था। इस तस्वीर के बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी समेत तमाम लोगों ने बेहद नाराजगी जाहिर की थी। पांच महीनों से हिरासत में चल रहे 49 वर्षीय उमर की यह पहली तस्वीर सार्वजनिक रूप से सामने आई थी। उमर समेत राज्य के तीन पूर्व मुख्यमंत्री पांच अगस्त से ही हिरासत में चल रहे हैं जब केंद्र ने जम्मू कश्मीर में अनुच्छेद 370 को रद्द करके उसे दो केंद्र शासित क्षेत्रों में विभाजित करने का फैसला किया था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।