हिमाचल में राहत कार्य में जुटे सीमा सड़क संगठन के दो अधिकारी ने गंवाई अपनी जान

हिमाचल में राहत कार्य में जुटे सीमा सड़क संगठन के दो अधिकारी ने गंवाई अपनी जान

सीमा सडक संगठन की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि हिमाचल प्रदेश में राहत एवं बचाव अभियान के दौरान सीमा सडक संगठन बीआरओ ने एक इंजीनियर और एक परियोजना अधिकारी को खो दिया है।

शिमला। हिमाचल प्रदेश के लाहौल स्पीति जिले में आई भयानक बाढ के बाद सामान्य जनजीवन को बहाल करने में लगे सीमा सडक संगठन के दो अधिकारियों की राहत व बचाव कार्य के दौरान मौत हो जाने की खबर सामने आ रही है। इस बारे में सीमा सडक संगठन की ओर से जारी एक बयान में कहा गया है कि हिमाचल प्रदेश में राहत एवं बचाव अभियान के दौरान सीमा सडक संगठन बीआरओ ने एक इंजीनियर और एक परियोजना अधिकारी को खो दिया है। पिछले दिनों से मनाली लेह रोड पर बारालाचा से पहले सरचू के पास ऐसे ही एक हिस्से में महिलाओं और बच्चों सहित कई नागरिक फंसे हुए थे और ऊंचाई वाली परिस्थितियों में ऑक्सीजन की कमी के कारण समस्याओं का सामना करना पड़ा था। बीआरओ टीम ने 14,480 फीट की ऊंचाई पर स्थित केनलुंग सराय के पास कई अन्य भूस्खलनों के बीच सड़क को साफ किया और लोगों को बचाया गया है। 

इसे भी पढ़ें: लाहौल में अब भी जारी है हालात सामान्य करने के लिए जद्दोजहद 

लेकिन बचाव अभियान में शामिल दीपक प्रोजेक्ट के नायक रीतेश कुमार पाल की जान चली गई। बाद में सड़क को यातायात के लिए खोल दिया गया। वहीं चार दिन पहले एक अन्य घटना में, भारी भूस्खलन के कारण अवरुद्ध किलाड-तांडी सड़क की निकासी के लिए बीआरओ के एक अलग इंजीनियरिंग टास्क फोर्स को तैनात किया गया। क्षेत्र में दो यात्री वाहन फंसे हुए थे। टीम ने पहले ही रास्ते में दो भूस्खलन को साफ कर दिया था, टीम ने स्लाइड जोन में फंसे नागरिकों के जीवन को बचाने के लिए देर रात निकासी अभियान चलाया। ऑपरेशन के दौरान, टीम के कुछ सदस्य, छह नागरिक और एक वाहन अचानक आई बाढ़ में बह गए। घटना में कनिष्ठ अभियंता राहुल कुमार की मौत हो गई, जबकि अन्य को बीआरओ कर्मियों ने बचा लिया। बाद में बीआरओ कर्मियों ने भूस्खलन को साफ किया, फंसे हुए यात्रियों को बचाया और उन्हें सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। 

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री ने वजीर सिंह डिग्री कॉलेज को पीजी कॉलेज में स्तरोन्नत करने की घोषणा की 

इस बीच मुख्य सचिव ने राज्यपाल को बारिश से हुए नुकसान व बचाव कार्यां की जानकारी दी। मुख्य सचिव अनिल खाची ने आज राजभवन में राज्यपाल राजेंद्र विश्वनाथ आर्लेकर से भेंट की। मुख्य सचिव ने राज्यपाल को प्रदेश में भारी बारिश के कारण हुए नुकसान तथा प्रशासन द्वारा राहत एवं बचाव कार्यों के लिए उठाये गए कदमों की जानकारी दी। राज्यपाल ने मुख्य सचिव को राहत व पुनर्वास कार्यों में तेजी लाने तथा प्रभावितों को हर संभव सहायता प्रदान करने के निर्देश दिए। प्रधान सचिव, राजस्व के.के पंत भी इस अवसर पर उपस्थित थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।