CBSE प्रेक्टिकल परीक्षा देने आयी दो छात्रों के साथ यौन उत्पीड़न, स्कूल के मालिक ने ही की छेड़छाड़

CBSE प्रेक्टिकल परीक्षा देने आयी दो छात्रों के साथ यौन उत्पीड़न, स्कूल के मालिक ने ही की छेड़छाड़

मुजफ्फरनगर से जो घटना सामने आयी है वह इस बात का प्रमाण देती हैं कि उत्तर प्रदेश में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। ताजा रिपोर्ट के अनुसार 17 नवंबर को मुजफ्फरनगर में एक 10वीं कक्षा की लड़की को स्कूल में स्कूल के द्वारा पेपर देने के बहाने बुलाया गया और रात भर लड़की के साथ छेड़छाड़ की गयी।

एक तरफ उत्तर प्रदेश में चुनाव होने वाले हैं, सरकार उत्तर प्रदेश  की सुरक्षा को लेकर तमाम तरह की बातें कर रही हैं। महिलाओं की सुरक्षा, बेरोजगारों को रोजगार, गरीबों को भोजन देनें जैसे कई वादें किए जा रहे हैं लेकिन जमीनी स्तर पर हालात अलग दिखायी पड़ रहे हैं। अपराध करने वालों मे कानून का कोई डर नहीं दिखायी पड़ रहा है। उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर से जो घटना सामने आयी है वह इस बात का प्रमाण देती हैं कि उत्तर प्रदेश में महिलाएं सुरक्षित नहीं हैं। ताजा रिपोर्ट के अनुसार 17 नवंबर को मुजफ्फरनगर में एक 10वीं कक्षा की लड़की को स्कूल में स्कूल के द्वारा पेपर देने के बहाने बुलाया गया और रात भर लड़की के साथ छेड़छाड़ की गयी। 

  

उत्तर प्रदेश के मुजफ्फरनगर में  17 नवंबर को कक्षा 10 की लड़कियों को स्कूल बुलाया गया और सीबीएसई की प्रेक्टिकल परीक्षा के बहाने रात भर रुकने के लिए कहा गया। वहां, उन्हें कथित तौर पर नशीले पदार्थ के साथ खाना दिया गया और बाद में स्कूल के मालिक द्वारा छेड़छाड़ की गई। वे अगले दिन ही पुरकाजी इलाके के निजी स्कूल से घर लौटे। लड़कियों को कथित तौर पर धमकी दी गई थी कि वे किसी को यह न बताएं कि क्या हुआ था या उनके परिवार के सदस्यों को मार डाला जाएगा। सूत्रों के अनुसार लड़कियां बहुत गरीब परिवारों से आती हैं।

मामला तब सामने आया जब दो पीड़ितों के माता-पिता ने पुरकाजी विधायक प्रमोद उत्वाल से संपर्क किया, जिन्होंने तब वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक यादव से संपर्क कर जांच शुरू की। उन्होंने दावा किया कि तब तक, माता-पिता ने कई बार पुलिस द्वारा अपनी शिकायत दर्ज कराने की कोशिश की, लेकिन कोई फायदा नहीं हुआ। 

मुजफ्फरनगर जिले में दो लड़कियों के साथ बलात्कार की कथित कोशिश करने को लेकर एक निजी स्कूल के दो कर्मियों के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। साथ ही, मामले में निष्क्रियता बरतने को लेकर एक पुलिस अधिकारी को लाइन हाजिर कर दिया गया है। अधिकारियों ने सोमवार को यह जानकारी दी। जिले के वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक अभिषेक यादव ने सोमवार को बताया कि भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के नेता और स्थानीय विधायक प्रमोद उटवाल के हस्तक्षेप के बाद परिवार की शिकायत पर मामला दर्ज किया गया।

उन्होंने बताया कि पुरकाजी पुलिस थाना प्रभारी वी के सिंह को इस मामले में कथित लापरवाही बरतने को लेकर लाइन हाजिर कर दिया गया। यादव ने बताया कि दो लड़कियों से बलात्कार की कथित कोशिश के मामले में स्कूल प्रबंधन के दो कर्मियों भूपा योगेश चौहान और अर्जुन के खिलाफ मामला दर्ज किया गया है। यादव ने बताया कि यह कथित घटना उस समय हुई, जब चौहान और अर्जुन 15 अन्य विद्यार्थियों के साथ लड़कियों को प्रायोगिक परीक्षा के लिए एक अन्य स्कूल में लेकर गए थे और उन्हें वहां रातभर रुकना था। पीड़िताओं के परिजन की शिकायत के अनुसार, दोनों आरोपियों ने नाबालिगों को नशीला पदार्थ पिला कर उनका बलात्कार करने की कथित कोशिश की।

वरिष्ठ पुलिस अधीक्षक (एसएसपी) यादव ने भी बताया कि आरोपियों ने लड़कियों को धमकी दी कि वे घटना के बारे में किसी को नहीं बताएं। परिजन के अनुसार, जब वे स्थानीय पुलिस के पास पहुंचे, तो उन्होंने कोई कदम नहीं उठाया, जिसके बाद उन्होंने विधायक से संपर्क किया। एसएसपी ने बताया कि स्कूल प्रबंधन के दो लोगों के खिलाफ भारतीय दंड की धारा 328 (अपराध करने के इरादे से जहर आदि से नुकसान पहुंचाना), धारा 354 (महिला की गरिमा को ठेस पहुंचाने के इरादे से हमला या आपराधिक बल प्रयोग करना) और यौन अपराधों से बच्चों का संरक्षण अधिनियम की संबद्ध धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।