उद्धव ठाकरे का भाजपा पर हमला, कहा- हर चुनाव के पहले राम मंदिर मुद्दा उठाया जाता है

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 22, 2018   18:23
उद्धव ठाकरे का भाजपा पर हमला, कहा- हर चुनाव के पहले राम मंदिर मुद्दा उठाया जाता है

पुणे की जुन्नार तहसील में स्थित यह किला छत्रपति शिवाजी की जन्मस्थली है। ठाकरे ने किले से मिट्टी ली जिसे वह अपने साथ 25 नवंबर को अयोध्या ले जाएंगे।

पुणे/मुंबई। शिवसेना प्रमुख उद्धव ठाकरे ने बृहस्पतिवार को कहा कि हर चुनाव के पहले राम मंदिर मुद्दे को हवा दी जाती है। उन्होंने हैरानी जतायी कि ‘मंदिर वहीं बनेगा’ नारे के साथ कब तक लोगों को मूर्ख बनाया जाता रहेगा? ठाकरे ने कहा कि 25 नवंबर को अयोध्या की यात्रा के दौरान वह जवाब मांगेगे कि कितने और चुनाव तक लोगों को इस नारे से मूर्ख बनाया जाएगा। शिवसेना प्रमुख ठाकरे ने अयोध्या दौरे के लिए बृहस्पतिवार को पुणे के शिवनेरी किले से मिट्टी ली। 

पुणे की जुन्नार तहसील में स्थित यह किला छत्रपति शिवाजी की जन्मस्थली है। ठाकरे ने किले से मिट्टी ली जिसे वह अपने साथ 25 नवंबर को अयोध्या ले जाएंगे। ठाकरे ने मुंबई में शिवसेना की विजयादशमी रैली के दौरान ऐलान किया था कि वह मिट्टी लेकर 25 नवंबर को अयोध्या जाएंगे और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से राम मंदिर के निर्माण को लेकर सवाल करेंगे। उन्होंने कहा, ‘‘छत्रपति शिवाजी महाराज की जन्मस्थल की मिट्टी से सभी हिंदुओं की भावनाएं जुड़ी है और राम मंदिर निर्माण प्रक्रिया को गति देने के लिए इन भावनाओं को एकत्र किया जा रहा।’’

शिवसेना प्रमुख ने कहा, ‘‘हर चुनाव के पहले राम मंदिर का मुद्दा उठाया जाता है। मैं जवाब मांगूंगा कि मंदिर वहीं बनाएंगे नारे के साथ कितने और चुनाव तक लोगों को मूर्ख बनाया जाएगा।’’ यह पूछे जाने पर कि क्या अयोध्या में जनसभा के लिए अनुमति मिली है, ठाकरे ने कहा ‘‘साधु संतों ने अपनी इच्छा जतायी थी कि मुझे वहां जाना चाहिए, इसलिए मैं उनका आशीर्वाद लूंगा और सरयू नदी के तट पर शाम की आरती में हिस्सा लूंगा।’’ अयोध्या में राम मंदिर निर्माण के लिए अपनी पार्टी के अभियान को तेजी देने के उद्देश्य से ठाकरे ने 'पहले मंदिर, फिर सरकार" का नारा दिया है। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।