छत्तीसगढ़ में पोला पर्व पर केंद्रीय गृह मंत्री शाह ने बैलों की पूजा की

Home Minister Amit Shah
प्रतिरूप फोटो
ANI
केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में पोला पर्व के अवसर पर बैलों की पूजा की। पोला पर्व खरीफ फसल की खेती के दूसरे चरण के पूरा होने पर मनाया जाता है। इस पर्व पर लोग बैलों और उसकी मिटटी की मूर्ति की पूजा करते हैं, जो खेती कार्य में गोधन के सहयोग के लिए आभार का प्रतीक है।

रायपुर, 28 अगस्त केंद्रीय गृह मंत्री अमित शाह ने शनिवार को छत्तीसगढ़ की राजधानी रायपुर में पोला पर्व के अवसर पर बैलों की पूजा की। पोला पर्व खरीफ फसल की खेती के दूसरे चरण के पूरा होने पर मनाया जाता है। इस पर्व पर लोग बैलों और उसकी मिटटी की मूर्ति की पूजा करते हैं, जो खेती कार्य में गोधन के सहयोग के लिए आभार का प्रतीक है। शाह शनिवार को राष्ट्रीय अन्वेषण अभिकरण (एनआईए) रायपुर शाखा के कार्यालय भवन का उद्घाटन करने और ‘मोदी@20 ड्रीम्स मीट डिलीवरी’ किताब पर एक सेमिनार में शामिल होने के लिए छत्तीसगढ़ की राजधानी पहुंचे थे।

शाह ने दोनों कार्यक्रमों में अपने संबोधन के दौरान राज्य के लोगों को पोला के लिए बधाई दी। वहीं, पंडित दीनदयाल उपाध्याय सभागार में संगोष्ठि से पहले शाह ने पारंपरिक शैली में सजाए गए बैलों की एक जोड़ी की पूजा की। केंद्रीय गृह मंत्री ने इस अवसर पर कहा, ‘‘हम भारत के लोग अपनी संस्कृति, अपनी सभ्यता, अपने तीज त्यौहार के लिए सारे संसार में पहचाने जाते हैं। विदेशों में भी भारतवंशी भारत की संस्कृति के अनुरूप सभी त्योहार मनाते हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘वसुधैव कुटुंबकम की भावना को आत्मसात करने वाली भारतीय संस्कृति संपूर्ण विश्व को परिवार मानती है और हमारे देश के सभी त्योहार सारी धरती के लिए खुशहाली की कामना करते हैं। हमारी सरकार प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में देश में संस्कृति के संरक्षण की दिशा में अभूतपूर्व प्रयास कर रही है।’’

शाह ने कहा, ‘‘भारतीय संस्कृति के चेतना केंद्र प्रभु श्री राम की जन्मभूमि पर मंदिर निर्माण का श्री गणेश किया जा चुका है। भगवान श्री राम के ननिहाल छत्तीसगढ़ में आज मैं पोला त्योहार के अवसर पर आया हूं और यह मेरा सौभाग्य है।’ छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने प्रति वर्ष की तरह यहां अपने आधिकारिक आवास पर पोला उत्सव समारोह का आयोजन किया तथा शाह को भी आमंत्रित किया था। हालांकि, शाह अपने संक्षिप्त दौरे के दौरान मुख्यमंत्री निवास में आयोजित समारोह में शामिल नहीं हुए।

वरिष्ठ पत्रकार और राजनीतिक विश्लेषक आर कृष्णा दास ने कहा कि बघेल के नेतृत्व वाली कांग्रेस सरकार ने क्षेत्रीय गौरव को बढ़ावा देने के लिए राज्य के पारंपरिक त्योहारों और संस्कृति पर बहुत ध्यान दिया है। राज्य में अगले वर्ष विधानसभा का चुनाव है। शाह का पोला पर्व पर बैलों की पूजा करना सत्ताधारी दल के एजेंडे का मुकाबला करने के लिए विपक्षी दल भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) की रणनीति का हिस्सा माना जाना चाहिए।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


अन्य न्यूज़