रोहिंग्या को फ्लैट मामले में बोले मनीष सिसोदिया, केंद्रीय गृह मंत्री देश के सामने रखें स्पष्ट रुख, मामले की हो जांच

Manish Sisodia
Twitter
उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया ने कहा कि हमें अखबारों से पता चला कि रोहिंग्या को घर देने की बात चल रही है। मुझे भी आश्चर्य हुआ? बाद में पता चला कि केंद्रीय अधिकारियों की बैठक हुई थी जिसमें निर्णय लिए गए थे और मुख्य सचिव के जरिए इन निर्णयों को अमल में लाने के लिए उपराज्यपाल के पास भेजा गया।

नयी दिल्ली। रोहिंग्या मुसलमानों को लेकर राष्ट्रीय राजधानी में घमासान मचा हुआ है। भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) और आम आदमी पार्टी एक दूसरे पर आरोप-प्रत्यारोप की राजनीति कर रहे हैं। इसी बीच दिल्ली की अरविंद केजरीवाल सरकार में उपमुख्यमंत्री मनीष सिसोदिया का बयान सामने आया। जिसमें उन्होंने बताया कि हमें अखबारों से पता चला कि रोहिंग्या को घर देने की बात चल रही है।

इसे भी पढ़ें: क्या मंत्रालयों के बीच तालमेल नहीं ? रोहिंग्या मामले में हरदीप पुरी ने करा दी फजीहत, भाजपा-AAP आमने सामने 

पमुख्यमंत्री ने कहा कि हमें अखबारों से पता चला कि रोहिंग्या को घर देने की बात चल रही है। मुझे भी आश्चर्य हुआ? बाद में पता चला कि केंद्रीय अधिकारियों की बैठक हुई थी जिसमें निर्णय लिए गए थे और मुख्य सचिव के जरिए इन निर्णयों को अमल में लाने के लिए उपराज्यपाल के पास भेजा गया।

उन्होंने बताया कि जब मैंने बैठक का विवरण मांगा, तो मैंने देखा कि फाइलों में यह उल्लेख किया गया था कि केंद्र सरकार द्वारा अनुमोदन के लिए इसे सीएस के माध्यम से सीधे उपराज्यपाल को भेजा जा रहा था। दिल्ली की चुनी हुई सरकार से पूरी तरह छुपाया गया था, यह साजिश क्यों ?

मनीष सिसोदिया ने कहा कि इस बारे में जब मैंने बयान दिया तो फिर केंद्र सरकार बैकफुट में आई और केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बयान जारी किया और स्पष्टीकरण दिया। उन्होंने कहा कि केंद्रीय गृह मंत्रालय ने बयान देकर यह कहा कि हम नहीं कर रहे हैं तो फिर कर कौन रहा है ? और करा कौन रहा है ?

इसे भी पढ़ें: केंद्र ‘गुपचुप तरीके से’ रोहिंग्याओं को दिल्ली में स्थायी ठिकाना देने की कोशिश कर रहा : सिसोदिया 

इस मामले को लेकर उपमुख्यमंत्री ने केंद्रीय गृह मंत्रालय अमित शाह को पत्र लिखा। जिसमें उन्होंने गृह मंत्री से अपील की कि आप केंद्र सरकार का स्पष्ट रुख देश और दिल्ली के सामने रखें। इसके अतिरिक्त उन्होंने इस मामले में जांच की मांग की। 

इसी बीच उन्होंने कहा कि रोहिंग्या या फिर कोई भी अवैध तरीके से देश में रह रहा है, जो हमारी नीतियों के खिलाफ है तो केंद्र सरकार को एक्शन लेना चाहिए। 

अन्य न्यूज़