केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का अकॉउंट हुआ हैक, 1 घंटे में हुआ रिकवर

केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया का अकॉउंट हुआ हैक, 1 घंटे में हुआ रिकवर

सिंधिया की इंस्टाग्राम आईडी शनिवार सुबह हैक हुई। समर्थकों को जैसे ही इसकी जानकारी लगी, उन्होंने सिंधिया की आईटी टीम को इससे अवगत कराया। 1 घंटे के अंदर ही अकाउंट रिकवर कर लिया गया।

भोपाल। केंद्रीय मंत्री ज्योतिरादित्य सिंधिया की इंस्टाग्राम आईडी हैक होने की खबर सामने आई है। हैकर ने उनका नाम बदलकर श्रेया अरोरा लिख दिया। समर्थकों ने इसकी जानकारी आईटी सेल को दी। जिसके बाद 1 घंटे के अंदर ही आईडी रिकवर कर ली गई। इससे पहले भी उनका फेसबुक अकाउंट हैक हुआ था।

दरअसल सिंधिया की इंस्टाग्राम आईडी शनिवार सुबह हैक हुई। समर्थकों को जैसे ही इसकी जानकारी लगी, उन्होंने सिंधिया की आईटी टीम को इससे अवगत कराया। 1 घंटे के अंदर ही अकाउंट रिकवर कर लिया गया। ऐसे में जैसे ही आईडी हैक होने की बात सामने आई टीम तत्काल सक्रिय हो गई।

इससे पहले अगस्त में सिंधिया का फेसबुक अकाउंट हैक हुआ था। मार्च 2020 में कांग्रेस छोड़कर भाजपा में आए सिंधिया को अगस्त में मोदी सरकार के मंत्रिमंडल में शामिल किया गया था। हैकर ने उनका अकाउंट हैक कर जो वीडियो अपलोड किए उनमें वे मोदी सरकार की कमियां गिनाते हुए दिखाई दे रहे हैं।

सिंधिया ने दिग्विजय के इलाके में सार्वजनिक कार्यक्रम या सभा नहीं की है। 2018 के विधानसभा चुनाव से पहले केवल एक बार 16 मई 2018 को जयवर्धन सिंह के निमंत्रण पर वे राघोगढ़ किले पर भोजन करने पहुंचे थे। मार्च 2020 में बीजेपी का दामन थामने के बाद भी ज्योतिरादित्य सिंधिया ने अभी तक दिग्विजय सिंह के इलाके में कार्यक्रम नहीं किया था। भाषणों में भी सिंधिया दिग्विजय सिंह पर खुलकर कुछ नहीं बोले हैं।

ज्योतिरादित्य सिंधिया के बीजेपी में जाने के बाद से ही यह चर्चा थी कि सिंधिंया कब दिग्विजय सिंह को चुनौती देंगे। लगभग डेढ़ साल बाद बीजेपी दिग्गी राजा के इलाके में बड़ी सेंध लगाने में कामयाब होती दिखाई दे रही है। ऐसा माना जा रहा है कि जिस तरह उपचुनावों में दिग्विजय सिंह, उनके भाई लक्ष्मण सिंह और राघोगढ़ विधायक जयवर्धन सिंह चौपेट नदी की सीमा लांघकर सिंधिया के इलाके में चुनाव प्रचार करने आए थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...