बाबुल सुप्रियो से मारपीट की घटना के बाद विश्वविद्यालय बना रहा है सख्त मानदंड

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  सितंबर 24, 2019   15:59
बाबुल सुप्रियो से मारपीट की घटना के बाद विश्वविद्यालय बना रहा है सख्त मानदंड

वर्तमान में किसी आयोजन के लिए महज एक दिन पहले लिखित में सूचना अथवा अधिकारियों को मुंहजबानी भी इसकी जानकारी दी जा सकती है।अधिकारियों ने हालांकि कहा कि प्रस्तावित नियमों को मंजूरी के लिए कार्यकारी परिषद के पास भेजा जाएगा। यह विश्वविद्यालय की सर्वोच्च नीति निर्धारण इकाई है।

कोलकाता। पश्चिम बंगाल के यादवपुर विश्वविद्यालय के अधिकारी विश्वविद्यालय परिसर के भीतर किसी भी प्रकार के आयोजन के लिए कड़े नियम तैयार कर रहे हैं।यह कदम हाल ही में यादवपुर विश्वविद्यालय में भाजपा नेता बाबुल सुप्रियो के साथ मारपीट की घटना के मद्देनजर उठाया गया है।विश्वविद्यालय के एक अधिकारी ने पीटीआई भाषा से मंगलवार को कहा तय नियमों के अनुसार केवल पंजीकृत संगठनों को ही परिसर में कार्यक्रम आयोजित करने की अनुमति होगी और अनुमति लेने के दौरान उन्हें वक्ताओं के नामों की सूची जमा करनी होगी । उन्होंने बताया कि इसके अलावा अधिकारी कार्यक्रम की वीडियोग्राफी करेंगे और अगर कैंपस में किसी प्रकार की तोड़फोड़ होती है तो विश्वविद्यायल पुलिस में शिकायत दर्ज करा सकता है।

इसे भी पढ़ें: जादवपुर विश्वविद्यालय मामला: छात्र ने कहा, बाबुल सुप्रियो से नहीं मांगूंगा माफी

वर्तमान में किसी आयोजन के लिए महज एक दिन पहले लिखित में सूचना अथवा अधिकारियों को मुंहजबानी भी इसकी जानकारी दी जा सकती है।अधिकारियों ने हालांकि कहा कि प्रस्तावित नियमों को मंजूरी के लिए कार्यकारी परिषद के पास भेजा जाएगा। यह विश्वविद्यालय की सर्वोच्च नीति निर्धारण इकाई है।यादवपुर शिक्षक संघ(जेयूटीए) के एक प्रवक्ता ने कहा कि अगली कार्यकारी परिषद की बैठक में अनुशंसाओं पर विचार किया जाएगा। यह बैठक जल्द ही होनी है।उन्होंने कहा,‘‘हम परिसर में शांति चाहते हैं और यह सुनिश्चित करना चाहते हैं कि शिक्षण का माहौल नहीं बिगड़े। जेयूटीए शांतिपूर्वक प्रदर्शन के छात्रों के अधिकार का समर्थन करता है। हालांकि हम किसी बाहरी का परिसर में प्रवेश और संपत्ति को नुकसान पहुंचाने की निंदा करते हैं।’’गौरतलब है कि पिछले बृहस्पतिवार को विश्वविद्यालय में आयोजित एक कार्यक्रम में शिरकत करने पहुंचे सुप्रियो के साथ कुछ छात्रों ने मारपीट की थी। और स्थिति बिगड़ने के बाद राज्यपाल को उन्हें वहां से निकालने के लिए जाना पड़ा था।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।