हिमाचल प्रदेश में पहली जून से अनलॉक प्रकिया शुरू होगी

हिमाचल प्रदेश में पहली जून से अनलॉक प्रकिया शुरू होगी

पहली लहर के दौरान प्रदेश में 58403 पॉजिटिव मामले और 982 लोगों की मृत्यु दर्ज की गई थीं। इसकी तुलना में अब तक दूसरी लहर के दौरान 125944 पॉजिटिव मामले और 1935 लोगों की मृत्यु दर्ज हो चुकी हैं।

मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने कहा है कि हिमाचल प्रदेश में पिछले कुछ दिनों से कोरोना मामलों में कमी दर्ज की जा रही है। हालांकि अभी मृत्यु दर में कमी नहीं आई है। शिमला में आज पत्रकारों से अनौपचारिक बातचीत में मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना मामलों में कमी आने पर प्रदेश सरकार पहली जून से आर्थिक गतिविधियों को शुरू करने पर विचार करेगी।

उन्होंने कहा कि राज्य में कोविड-19 के मामलों में आई तेजी के दृष्टिगत राज्य तथा प्रदेशवासियों के व्यापक हितों को ध्यान में रखते हुए प्रदेश सरकार द्वारा इस माह की 31 मई तक पूरे प्रदेश में कोरोना कर्फ्यू लगाने का निर्णय लिया है। लेकिन अब हम अनलॉक प्रक्रिया शुरू करने जा रहे हैं गत कुछ दिनों के दौरान कोविड-19 के मामलों की संख्या में काफी गिरावट दर्ज की गई है, इसलिए प्रदेश सरकार इस माह की 31 तारीख के बाद धीरे-धीरे तथा चरणबद्ध ढंग से अनलॉक की प्रक्रिया पर विचार कर सकती है, बशर्ते कोविड-19 के मामलों में निरंतर कमी आए।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल में 31 मई तक बढाया गया कोरोना कर्फ्यू, मंत्रिमण्डल की बैठक में और भी बड़े निर्णय हुए

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य में लागू किए गए कोरोना कर्फ्यू के कारण व्यापारी समुदाय को पेश आ रही परेशानियों के प्रति संवेदनशील है। उन्होंने कहा कि कोरोना महामारी की दूसरी लहर ज्यादा घातक है। प्रदेश में कोविड-19 का पहला मामला लगभग 15 माह पहले सामने आया था। प्रदेष सरकार द्वारा इस महामारी को फैलने से रोकने के लिए समय पर उठाए गए कदमों के फलस्वरूप 23 फरवरी, 2021 को प्रदेष में केवल 200 सक्रिय मामले रह गए थे। पहली लहर के दौरान प्रदेश में 58403 पॉजिटिव मामले और 982 लोगों की मृत्यु दर्ज की गई थीं। इसकी तुलना में अब तक दूसरी लहर के दौरान 125944 पॉजिटिव मामले और 1935 लोगों की मृत्यु दर्ज हो चुकी हैं।

उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा दूसरी लहर के दौरान आवश्यकता के अनुसार अधोसंरचना तथा विभिन्न स्वास्थ्य सुविधाओं को बढ़ाया गया है। प्रदेश में टेस्टिंग, आइसोलेशन तथा उपचार पर बल दिया जा रहा है। पहली लहर के दौरान कुल 10 लाख 63 हजार 922 टेस्ट के मुकाबले दूसरी लहर आने के बाद अब तक 8 लाख 895 टेस्ट किए जा चुके हैं। प्रदेश में इस संक्रमण से बचाव के लिए 45 वर्ष से अधिक आयु वर्ग के 18 लाख 77 हजार 950 लोगों को कोविशील्ड की पहली खुराक दी जा चुकी है।

इसे भी पढ़ें: हिमाचल प्रदेश में कोविड मरीजों की वृद्धि दर में आई कमी

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेष सरकार ने प्रदेश में कोविड समर्पित स्वास्थ्य संस्थानों की संख्या में वृद्धि की हैं। प्रदेश में एक मार्च, 2021 को 11 ऐसे संस्थान थे, जिनमें 440 बिस्तर तथा 32 आईसीयू बिस्तर उपलब्ध थे, जबकि वर्तमान में प्रदेश में 56 कोविड समर्पित स्वास्थ्य संस्थानों में कुल 3860 बिस्तर तथा 291 आईसीयू बिस्तरों की सुविधा प्रदान की जा रही हैं। इससे पहले मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज इंदिरा गांधी चिकित्सा महाविद्यालय शिमला में इलाज करा रहे पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह का कुशलक्षेम जाना। मुख्यमंत्री ने वीरभद्र सिंह के शीघ्र स्वास्थ्य लाभ की कामना की। शहरी विकास मंत्री सुरेश भारद्वाज, प्रधानाचार्य आईजीएमसी डा. रजनीश पठानिया, वरिष्ठ चिकित्सा अधीक्षक डा. जनक राज और अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।