मांग भरने से पहले दुल्हन को पता चल गया दूल्हे का राज, लौटी बारात

मांग भरने से पहले दुल्हन को पता चल गया दूल्हे का राज, लौटी बारात

दूल्हा विपिन कुमार जनपद की चकरनगर तहसील स्थित थाना बिठौली इलाके के बंसरी गांव का रहने वाला है और उसकी शादी जालौन जनपद की डॉली से होने वाली थी।शादी 22 जनवरी को एक गेस्ट हाउस में होने वाली थी।दूल्हन को पता चला की उसको विदाई के बाद गांव बंसरी जाना होगा और वहीं हमेशा के लिए रहेगी।

उत्तर प्रदेश के इटावा जनपद से एक अनोखी घटना सामने आई है जहां दूल्हन ने साते फेरे लेने से इनकार कर दिया क्योंकि दूल्हे का घर गांव में था। शादी के बीच में ही दूल्हन ने सात फेरे लेने से इनकार कर दिया जिसके कारण दूल्हे समेत सभी बारातियों को वापस लौटना पड़ा। दूल्हा  विपिन कुमार जनपद की चकरनगर तहसील स्थित थाना बिठौली इलाके के बंसरी गांव का रहने वाला है और उसकी शादी जालौन जनपद की डॉली से होने वाली थी।

इसे भी पढ़ें: Google Meet पर कपल की शादी देखेंगे 300 मेहमान, जोमैटो के जरिए दिया जाएगा खाना

शादी 22 जनवरी को एक गेस्ट हाउस में होने वाली थी। शाम को बारात काफी धूमधाम से गेस्ट हाउस पर पहुंची। वरमाला भी अच्छे से संपन्न हुआ लेकिन जैसे ही शादी के लिए मांग भरने की रस्म शुरू हुई तभी दूल्हन को पता चला की उसको विदाई के बाद  गांव बंसरी जाना होगा और वहीं हमेशा के लिए रहेगी। बस इतना सुनते ही दूल्हन ने शादी से इनकार कर दिया। वर और वधू के पक्ष ने दूल्हन को काफी समझाने की कोशिश की लेकिन लड़की की जिद के आगे किसी की नहीं चली।

इसे भी पढ़ें: 'प्यार की खातिर' लड़के ने दी गर्लफ्रेंड की बीमार मां को किडनी, लड़की ने कर ली किसी और से शादी

तनाव की स्थिति में बारातियों ने पुलिस को बुला लिया और दूल्हन को समझाने की कोशिश की गई। लेकिन दुल्हन ने पुलिस की भी नहीं सुनी और आपसी समझौते के बाद दूल्हा बिना दूल्हन को लिए वापस घर लौट गया। दोनों पक्षों के बीच आपसी समझौते के बाद शादी रद्द कर दी गई।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।