UP में अब तक पैरोल पर छोड़े गए 17,963 कैदी, जेलों में भीड़ कम करने के मकसद से उठाया गया कदम

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जून 26, 2020   18:20
UP में अब तक पैरोल पर छोड़े गए 17,963 कैदी, जेलों में भीड़ कम करने के मकसद से उठाया गया कदम

उच्चतम न्यायालय ने मार्च में कोरोना वायरस महामारी का दायरा बढ़ने के बीच जेलों में भीड़ कम करने के मकसद से सात साल से कम की सजा वाले कैदियों को पैरोल पर छोड़ने पर विचार करने को कहा था।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश सरकार ने कोविड-19 महामारी के मद्देनजर कारागारों से भीड़ कम करने के लिये कैदियों को पैरोल पर छोड़ने के उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर अब तक 17,963 बंदियों को छोड़ा है। गृह विभाग के अपर मुख्य सचिव अवनीश कुमार अवस्थी ने शुक्रवार को यहां बताया कि उच्चतम न्यायालय के निर्देश पर 25 जून तक विभिन्न कारागारों से 17,963 कैदी पैरोल पर छोड़े गये हैं। इस तरह लगभग 15 से 17 प्रतिशत कैदी छोड़े गये हैं। उन्होंने बताया कि बाल संरक्षण गृहों में बंद बच्चों में से 665 को किशोर न्याय बोर्ड की अनुमति से पैरोल पर छोड़ा गया है। 

इसे भी पढ़ें: कोरोना वायरस: उत्तर प्रदेश में 19 और मौतें, संक्रमण के 762 नये मामले 

गौरतलब है कि उच्चतम न्यायालय ने मार्च में कोरोना वायरस महामारी का दायरा बढ़ने के बीच जेलों में भीड़ कम करने के मकसद से सात साल से कम की सजा वाले कैदियों को पैरोल पर छोड़ने पर विचार करने को कहा था। अवस्थी ने बताया कि प्रदेश में 53 अस्थायी कारागार बनाये गये हैं जिनमें 3380 भारतीय और 63 विदेशी कैदी रखे गये हैं। उन्होंने बताया कि प्रदेश में अब तक 1658 ट्रेनों के माध्यम से 22 लाख 37 हजार 254 प्रवासी लोग आ चुके हैं। अन्य प्रदेशों में श्रमिकों को भेजने का काम पूरा हो चुका है। कुल 82 ट्रेनों से एक लाख 42 हजार 767 लोग अपने घर जा चुके हैं। 

इसे भी पढ़ें: UP के लिए PM मोदी का आत्मनिर्भर मंत्र, 1.25 करोड़ लोगों को रोजगारी की 'गारंटी' वाली खुशखबरी 

अवस्थी ने बताया कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान के आगाज के मौके पर वीडियो कांफ्रेंस के जरिये प्रदेश के सिद्धार्थनगर में कुर्बान अली से बात की। उन्होंने बताया कि प्रधानमंत्री ने इसके अलावा गोंडा में विनीता पाल से, बहराइच में तिलकराम से, गोरखपुर में नागेन्द्र सिंह, संत कबीरनगर में रामचंद्र और अमरेन्द्र सिंह से बात की। साथ ही जालौन में बुंदेलखण्ड एक्सप्रेसवे पर एक श्रमिक से बात करके कार्य प्रगति का जायजा लिया।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।