UP TET का पेपर हुआ लीक, रद्द की गई परीक्षा, STF जांच में जुटी

UP TET का पेपर हुआ लीक, रद्द की गई परीक्षा, STF जांच में जुटी

मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एक महीने बाद दोबारा परीक्षा होगी। पूरे मामले को लेकर स्पेशल टास्क फोर्स जांच में जुटी है। सॉल्वर गैंग के कई सदस्य गिरफ्तार किए गए हैं। कहा जा रहा है कि अभ्यर्थियों को दोबारा फीस देने की जरूरत नहीं होगी। परीक्षा की नई तिथी बाद में जारी की जाएगी।

उत्तर प्रदेश शिक्षक पात्रता परीक्षा 2021 का पेपर लीक होने की वजह से परीक्षा को रद्द कर दिया गया है। यह पेपर सोशल मीडिया पर गाजियाबाद, मथुरा, बुलंदशहर में वायरल हो रहा था। मीडिया रिपोर्ट के अनुसार एक महीने बाद दोबारा परीक्षा होगी। पूरे मामले को लेकर स्पेशल टास्क फोर्स जांच में जुटी है। सॉल्वर गैंग के कई सदस्य गिरफ्तार किए गए हैं। कहा  जा रहा है कि अभ्यर्थियों को दोबारा फीस देने की जरूरत नहीं होगी। परीक्षा की नई तिथी बाद में जारी की जाएगी। उम्‍मीदवारों को आधिकारिक वेबसाइट updeled.gov.in पर नया नोटिफिकेशन चेक करना होगा।

इसे भी पढ़ें: सपा राज में उत्तर प्रदेश में दंगे होते थे: अनुराग ठाकुर का आरोप

पहले इस तरह की तमाम खबरें आ रही थी और प्रशासन ने इससे निपटने के लिए कई जगह कैमरा भी लगवाए गए। लेकिन तमाम कदमों के बाद भी परीक्षा को रद्द करने की नौबत आ गई। मथुरा, गाजियाबाद, बुलंदशहर के व्हाट्सएप ग्रुप पर ये पेपर वायरल हुआ था। जिसके बाद परीक्षा को रद्द कर दिया गया। सचिव परीक्षा नियामक प्राधिकारी संजय कुमार उपाध्याय ने बताया कि दोनों पारियों की परीक्षाएं निरस्त कर दी गई हैं। कैसे पेपर लीक हुआ, कौन-कौन इसके पीछे है और क्या लापरवाही बरती गई जैसे मसलों की एसटीएफ द्वारा जांच की जाएगी।

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश की बड़ी खबरें: अभी पूरी तरह समाप्त नहीं हुआ कोरोना, 5 नए मामले आए सामने

गौरतलब है कि टीईटी 2021 की परीक्षा रविवार को दो पालियों में होनी थी। प्रदेश भर में प्रथम पाली में 10 से 10:30 बजे तक 2554 केंद्रों पर प्राथमिक स्तर की परीक्षा का आयोजन किया जाना था और द्वितीय पाली में दोपहर के 2: 30 से 5: 30 बजे तक 1754 केंद्रो पर उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा का आयोजन किया जाना था। बता दें कि टीईटी प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 13.52 लाख और टीईटी उच्च प्राथमिक स्तर की परीक्षा के लिए 8.93 लाख अभ्यर्थियों ने रजिस्ट्रेशन कराया था।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।