ऑस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से की मुलाकात, निवेश की संभावनाओं पर हुई चर्चा

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  फरवरी 26, 2021   08:13
ऑस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त ने मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से की मुलाकात, निवेश की संभावनाओं पर हुई चर्चा

उच्चायुक्त ने कहा कि आस्ट्रेलिया के निवेशक उत्तर प्रदेश में सड़क और बुनियादी ढांचा, जल संसाधन तथा कौशल विकास क्षेत्र में निवेश करना चाहते हैं।

लखनऊ। मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ से बृहस्पतिवार को यहां उनके सरकारी आवास पर आस्ट्रेलिया के उच्चायुक्त बेरी ओ फैरेल एओ ने भेंट की। इस अवसर पर  मुख्यमंत्री ने उच्चायुक्त को बताया कि उत्तर प्रदेश सरकार ने पिछले लगभग चार वर्षों में प्रदेश में निवेश आकर्षित करने के लिए उल्लेखनीय कार्य किये हैं और प्रदेश में निवेश लाने के लिए आकर्षक नीतियां बनायी गयी हैं, जिससे प्रदेश में निवेश करना आसान हो गया है। 

इसे भी पढ़ें: सपा के हंगामे पर बोले CM योगी, ज्यादा गर्मी न दिखाएं, जो भाषा समझते हैं वैसा डोज समय-समय पर देता हूं 

एक सरकारी बयान के अनुसार, मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार द्वारा किये गये प्रयासों से वर्ष 2018 में आयोजित यूपी इन्वेस्टर्स समिट में चार लाख 68 हजार करोड़ रुपये के निवेश प्रस्ताव मिले हैं। आस्ट्रेलिया और भारत के बीच मधुर संबंध हैं और दोनों देश आपस में आर्थिक साझेदारी बढ़ाने के इच्छुक हैं। इसमें उत्तर प्रदेश और आस्ट्रेलिया शिक्षा के क्षेत्र में इस साझेदारी को आगे बढ़ा सकते हैं। 

इसे भी पढ़ें: मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ का दावा, पिछली सरकार के मुकाबले कम हुए अपराध 

राज्य सरकार द्वारा हर मण्डल में एक विश्वविद्यालय तथा प्रत्येक जनपद में एक मेडिकल कॉलेज खोलने का निर्णय लिया गया है, जिसमें आस्ट्रेलिया के संस्थान इस क्षेत्र में निवेश कर सकते हैं। उच्चायुक्त ने कहा कि आस्ट्रेलिया के निवेशक उत्तर प्रदेश में सड़क और बुनियादी ढांचा, जल संसाधन तथा कौशल विकास क्षेत्र में निवेश करना चाहते हैं। आस्ट्रेलिया राज्य सरकार के सहयोग से प्रदेश में निवेश की संभावनाएं तलाशेगा।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।