Veer Vanakkam: स्थानीय लोगों ने सीडीएस के पार्थिव शरीर पर बरसाए फूल, नम आंखों से दी विदाई

Veer Vanakkam: स्थानीय लोगों ने सीडीएस के पार्थिव शरीर पर बरसाए फूल, नम आंखों से दी विदाई

इन सबके बीच तमिलनाडु के स्थानीय लोगों ने जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और अन्य कर्मियों के शवों को ले जाने वाली एंबुलेंस पर फूलों की फूलों की बौछार की। इसके साथ ही लोगों ने भारत माता के जय के भी नारे भी लगाए।

भारत के पहले चीफ ऑफ डिफेंस स्टाफ जनरल बिपिन रावत, उनकी धर्मपत्नी मधुलिका रावत और 11 अन्य लोग अपने अंतिम यात्रा पर हैं। तमिलनाडु के कुन्नूर में एक हेलीकॉप्टर दुर्घटना में इन सभी की मृत्यु हो गई। आज इनके शवों को दिल्ली लाया जा रहा है। इन सबके बीच तमिलनाडु के स्थानीय लोगों ने जनरल बिपिन रावत, उनकी पत्नी और अन्य कर्मियों के शवों को ले जाने वाली एंबुलेंस पर फूलों की फूलों की बौछार की। इसके साथ ही लोगों ने भारत माता के जय के भी नारे भी लगाए।

इसे भी पढ़ें: अगले 7 दिनों में की जा सकती है नए CDS की नियुक्ति, तीनों चीफ में से कोई भी हो सकता है दावेदार, जानिए क्या है योग्यता का मानदंड

आपको बता दें कि जनरल बिपिन रावत और अन्य के पार्थिव शरीर को वायुसेना के विशेष विमान से दिल्ली लाया जा रहा है। देश के अलग-अलग हिस्सों में नम आंखों से सभी को श्रद्धांजलि दी जा रही है। फिलहाल जनरल बिपिन रावत और उनकी पत्नी मधुलिका रावत के शव की पहचान कर ली गई है। इसके अलावा एक और शव की पहचान हो चुकी है और बाकी शवों की पहचान की जा रही है। भारत के पहले सीडीएस जनरल रावत, उनकी पत्नी मधुलिका रावत और 11 अन्य की बुधवार को यहां पास में हेलीकॉप्टर दुर्घटना में मृत्यु हो गयी थी। बाद में शवों को एंबुलेंस के माध्यम से पास के कोयंबटूर स्थित सुलूर एयरबेस लाया गया।

रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आज संसद में इसकी जानकारी भी दी। रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने कहा कि दुर्घटना कैसे हुई इसकी, जांच शुरू की जा चुकी है। साथ ही साथ उन्होंने यह भी बताया कि जनरल बिपिन रावत और अन्य का अंतिम संस्कार पूरे सैन्य सम्मान के साथ होगा। इससे पहले तमिलनाडु के मुख्यमंत्री एमके स्टालिन, तेलंगाना की राज्यपाल तमिलिसाई सुंदरराजन और सैन्य कर्मियों समेत अन्य ने हेलीकॉप्टर दुर्घटना में जान गंवाने वाले प्रमुख रक्षा अध्यक्ष (सीडीएस) जनरल बिपिन रावत और 12 अन्य लोगों को बृहस्पतिवार को पुष्पांजलि अर्पित की। 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।