VHP अध्यक्ष ने CAA विरोध को ठहराया मूर्खतापूर्ण, बोले देश कोई धर्मशाला नहीं

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 20, 2020   18:37
VHP अध्यक्ष ने CAA विरोध को ठहराया मूर्खतापूर्ण, बोले देश कोई धर्मशाला नहीं

मध्यप्रदेश और राजस्थान उच्च न्यायालयों के पूर्व न्यायाधीश ने सीएए की जरूरत पर जोर देते हुए वीएचपी अध्यक्ष ने कहा कि हमें सीएए जैसा नागरिकता कानून तो अमल में लाना ही होगा। देश कोई धर्मशाला नहीं है कि कोई भी व्यक्ति इसमें घुसकर रहने लगे।

इंदौर। विश्व हिंदू परिषद के अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष विष्णु सदाशिव कोकजे ने सोमवार को कहा कि संशोधित नागरिकता कानून (सीएए) का विरोध मूर्खतापूर्ण है, क्योंकि लोग इस कानून के प्रावधान समझे बगैर ही इसके खिलाफ प्रदर्शन कर रहे हैं। कोकजे ने यहां  पीटीआई-भाषा  से कहा,  सीएए का विरोध सरासर मूर्खतापूर्ण है। सीएए के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों ने इसके प्रावधानों को पढ़ा तक नहीं है। उन्हें इसके प्रावधानों की समझ ही नहीं है। ये प्रदर्शनकारी यह भी नहीं बता रहे कि सीएए का कौन-सा प्रावधान गलत है।

इसे भी पढ़ें: नेताजी के पौत्र बोले, नागरिकता के मुद्दे पर सत्तारूढ़ और विपक्ष द्वारा भय का माहौल उत्पन्न किया जा रहा

मध्यप्रदेश और राजस्थान उच्च न्यायालयों के पूर्व न्यायाधीश ने सीएए की जरूरत पर जोर देते हुए कहा,  हमें सीएए जैसा नागरिकता कानून तो अमल में लाना ही होगा। देश कोई धर्मशाला नहीं है कि कोई भी व्यक्ति इसमें घुसकर रहने लगे। उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस और तृणमूल कांग्रेस जैसे राजनीतिक दल  बांग्लादेशी घुसपैठियों का अपना वोट बैंक बचाने के लिये  नागरिकता के मुद्दे पर लोगों को गुमराह कर रहे हैं और सीएए विरोधी प्रदर्शनों को हवा दे रहे हैं। मध्यप्रदेश समेत विपक्षी दल शासित राज्यों में सीएए के विरोध पर हिमाचल प्रदेश के पूर्व राज्यपाल ने कहा,  संविधान के प्रावधानों के मुताबिक सभी राज्य सरकारों को सीएए लागू करना ही होगा। 





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।