उपचार न मिलने से गर्भस्थ शिशु की मौत का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल, समिति कर रही जांच

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मई 27, 2020   09:10
उपचार न मिलने से गर्भस्थ शिशु की मौत का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल, समिति कर रही जांच

जिला सूचना अधिकारी राकेश चौहान ने बताया कि मंगलवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें एक व्यक्ति ने आरोप लगाया है कि समुचित स्वास्थ्य सेवाएं व एम्बुलेंस नहीं मिलने पर उसके नवजात बच्चे की मृत्यु हो गई।

नोएडा। उत्तर प्रदेश के गौतमबुद्ध नगर जिले में डॉक्टरों की कथित लापरवाही से एक नवजात बच्चे की मौत का वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल होने के बाद, मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने दो डॉक्टरों के नेतृत्व में एक समिति बनाकर, इसकी जांच शुरू कर दी है। जिला सूचना अधिकारी राकेश चौहान ने बताया कि मंगलवार को सोशल मीडिया पर एक वीडियो वायरल हुआ, जिसमें एक व्यक्ति ने आरोप लगाया है कि समुचित स्वास्थ्य सेवाएं व एम्बुलेंस नहीं मिलने पर उसके नवजात बच्चे की मृत्यु हो गई।

इसे भी पढ़ें: दिल्ली के केशवपुरम में जूते बनाने वाली एक फैक्टरी में लगी आग, कोई हताहत नहीं

उन्होंने बताया कि उक्त वीडियो को गंभीरता से लेते हुए गौतमबुद्ध नगर जिले के मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉ दीपक ओहरी ने मामले की जांच के लिए अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी डॉक्टर सुनील दोहरे तथा अपर मुख्य चिकित्सा अधिकारी संजीव मांगलिक के नेतृत्व में दो सदस्यी समिति बनाई है। चौहान ने बताया कि जांच के दौरान पता चला है कि 25 मई की रात को ग्रेटर नोएडा के सेक्टर -36 में रहने वाली रेखा कृष्णा लाइफ लाइन अस्पताल स्वर्ण नगरी में प्रसव के लिए भर्ती हुई थी।

इसे भी पढ़ें: नोएडा औद्योगिक विकास प्राधिकरण के प्रशासनिक भवन में आग, हजारों फाइलें जलकर खाक

लगभग 9:30 बजे उन्होंने बच्चे को जन्म दिया। बच्चे की हालत ठीक ना होने की वजह से बच्चे को इलाज के लिए रात 10 बजे ग्रीन सिटी हॉस्पिटल डेल्टा वन,ग्रेटर नोएडा में भर्ती कराया गया। उन्होंने बताया किवहां बच्चे को दो घंटे रखने के पश्चात, बच्चे को वेंटिलेटर पर रखा गया। तत्पश्चात अस्पताल द्वारा बच्चे को किसी अन्य चिकित्सालय में ले जाने के लिए कहा गया। चौहान ने बताया कि अस्पताल द्वारा प्रथमदृष्टया निम्न तीन बिंदुओं पर चूक की गई। पहली, वेंटिलेटेर पर रखे मरीज (शिशु) को एम्बुलेंस की सुविधा नहीं दी गई। दूसरी मरीज के साथ किसी भी स्वास्थ्य कर्मी को नहीं भेजा गया। तीसरी मरीज को रेफरल स्लिप नहीं दी गई। उन्होंने बताया कि रोगी के पिता द्वारा 108 एंबुलेंस बुलाई गई, और सही रेफरल ना होने के कारण पहले सामुदायिक स्वास्थ्य केंद्र दादरी में बच्चे को दिखाया गया। समुदायिक स्वास्थ्य केंद्र पर बाल रोग विशेषज्ञ ना होने कारण नवजात बच्चे को सुपर स्पेशलिटी बाल चिकित्सालय एवं पोस्ट ग्रेजुएट शिक्षण संस्थान सेक्टर-30 नोएडा भेजा गया। जहां बच्चे के अस्पताल पहुंचने से पहले ही मौत हो गई। उन्होंने बताया कि जांच के दौरान लापरवाही पाए जाने पर उप मुख्य चिकित्सा अधिकारी ने ग्रीन सिटी हॉस्पिटल डेल्टा वन को नोटिस जारी किया है उक्त अस्पताल के खिलाफ कड़ी कार्रवाई की जा रही है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।