जामिया फायरिंग पर बोले केजरीवाल: हम बच्चों को कलम दे रहे हैं, वे दे रहे हैं बंदूक

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 31, 2020   17:25
जामिया फायरिंग पर बोले केजरीवाल: हम बच्चों को कलम दे रहे हैं, वे दे रहे हैं बंदूक

जामिया नगर में गोली चलने की घटना पर भाजपा पर तीखा हमला करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि उनकी सरकार ने बच्चों को कम्प्यूटर और कलम दिए जबकि ‘‘वे उन्हें दे रहे हैं बंदूक और नफरत।’’

नयी दिल्ली। जामिया नगर में गोली चलने की घटना पर भाजपा पर तीखा हमला करते हुए दिल्ली के मुख्यमंत्री अरविंद केजरीवाल ने शुक्रवार को कहा कि उनकी सरकार ने बच्चों को कम्प्यूटर और कलम दिए जबकि ‘‘वे उन्हें दे रहे हैं बंदूक और नफरत।’’ दिल्ली सरकार के एक स्कूल के छात्र के आईटी-प्रौद्योगिकी सम्मेलन को संबोधित करने वाले वीडियो को ट्वीट करते हुए केजरीवाल ने हिंदी में कहा, ‘‘हमने बच्चों के हाथों में कलम और कम्प्यूटर दिए हैं और आंखों में उद्यमशीलता के सपने। वे दे रहे हैं बंदूक और नफरत।’’

इसे भी पढ़ें: दिल्ली के अस्पतालों की दशा पर BJP अध्यक्ष ने उठाया सवाल, कहा- न CT स्कैन है, न X-Ray और न है दवाई

उन्होंने कहा, ‘‘आप अपने बच्चों को क्या देना चाहते हैं? आठ फरवरी को बताइयेगा।’’ जामिया नगर में बृहस्पतिवार को तब तनाव व्याप्त हो गया जब एक शख्स ने पिस्तौल से संशोधित नागरिकता कानून के खिलाफ प्रदर्शन कर रहे लोगों के एक समूह पर गोली चला दी जिसमें एक छात्र घायल हो गया। इससे पहले वह पिस्तौल लहराता हुआ आया और चिल्लाकर कहा ‘‘यह लो आजादी।’’ बाद में पुलिस ने उसे पकड़ लिया।

इसे भी पढ़ें: केजरीवाल को आतंकी कहना गलत, शरजील जैसों को बीच चौराहे पर गोली मार देना चाहिए: संगीत सोम

आप ने इस घटना के पीछे भाजपा की साजिश बताई। उसने कहा कि भगवा पार्टी ‘‘दंगा जैसी’’ स्थिति पैदा करना चाहती है और आठ फरवरी के विधानसभा चुनाव को स्थगित कराना चाहती क्योंकि उसे हार का आभास हो गया है।

इसे भी देखें: Parvesh Sahib Singh Verma से सुनिये क्यों बताया Kejriwal को आतंकवादी





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।