विकास में जाति, मजहब का भेद नहीं करते हम: योगी आदित्यनाथ

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jan 4 2019 8:11PM
विकास में जाति, मजहब का भेद नहीं करते हम: योगी आदित्यनाथ
Image Source: Google

उन्होंने कहा कि गोरखपुर में उर्वरक संयंत्र को बंद करने के पीछे एक साजिश थी। इसकी वजह से यह संयंत्र वर्ष 1990 में बंद हो गया लेकिन मौजूदा भाजपा सरकार ने इसे खोलने की जिम्मेदारी ली। इससे बड़ी संख्या में क्षेत्रीय निवासियों को रोजगार मिलेगा।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने शुक्रवार को कहा कि भाजपा सरकार जाति, मजहब और क्षेत्र के आधार पर कोई भेदभाव किये बगैर जनता के कल्याण के लिये काम कर रही है। योगी ने 923 लाख रुपये की विभिन्न 112 परियोजनाओं के लोकार्पण अवसर पर कहा कि अगर शरीर का कोई अंग कमजोर हो जाए तो बदन दिव्यांग हो जाता है। उसी तरह अगर समाज का कोई वर्ग कमजोर हो जाए तो देश दिव्यांग हो जाता है। ऐसा विकास योजनाओं की उपलब्धता में भेदभाव के कारण होता है। उन्होंने कहा कि गोरखपुर में उर्वरक संयंत्र को बंद करने के पीछे एक साजिश थी। इसकी वजह से यह संयंत्र वर्ष 1990 में बंद हो गया लेकिन मौजूदा भाजपा सरकार ने इसे खोलने की जिम्मेदारी ली। इससे बड़ी संख्या में क्षेत्रीय निवासियों को रोजगार मिलेगा।

भाजपा को जिताए

 
मुख्यमंत्री ने कहा कि पूर्वांचल के लोग अच्छे इलाज का सपना देखते थे और हमारी सरकार गोरखपुर में एम्स देने जा रही है। वर्ष 2020 तक इसमें काम शुरू हो जायेगा। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार समाज के अंतिम पायदान पर खड़े व्यक्ति को ध्यान में रखकर योजनाएं संचालित कर रही है। केन्द्र और राज्य सरकार ने गरीबों के हित में अनेक योजनाएं लागू की हैं। प्रदेश सरकार बिना भेदभाव जन कल्याणकारी योजनाओं का लाभ समाज के अंतिम व्यक्ति तक पहुंचाने के लिए निरन्तर कार्य कर रही है। योगी ने कहा कि गोरखपुर बदल रहा है, यहां एक अत्याधुनिक प्राणि उद्यान की स्थापना की गयी है जिसका कार्य शीघ्र ही पूर्ण होगा। 
 
 


इसके अतिरिक्त यहां एक अत्याधुनिक वाटर स्पोर्ट्स काम्प्लेक्स तथा प्रेक्षागृह की स्थापना की जा रही है जिसका कार्य तेजी से पूर्ण करने के निर्देश संबंधित अधिकारियों को दिये गये हैं। आने वाले समय में रामगढ़ताल उत्तर प्रदेश का एक प्रमुख पर्यटन केन्द्र बनेगा। विकास की योजनाएं गोरखपुर को एक अलग पहचान दिलायेगी। मुख्यमंत्री ने इस मौके पर 68 प्राथमिक तथा उच्च प्राथमिक विद्यालयों में 75.7294 लाख रुपये की धनराशि से स्थापित 2473 डेस्क/बेंच एवं 1.75 लाख रुपये की धनराशि से चार प्राथमिक विद्यालयों में निर्मित पांच शौचालयों का लोकार्पण भी किया। उन्होंने इस अवसर पर 4500 गरीब असहायों को कम्बल भी वितरित किये। इसके अलावा उन्होंने नई पेंशन के कुल 31,549 स्वीकृति पत्र वितरित किये।
 

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video