तृणमूल सांसद महुआ मोइत्रा का योगी आदित्यनाथ पर पलटवार, बोलीं- हमें रोमियो भी पसंद हैं

तृणमूल सांसद महुआ मोइत्रा का योगी आदित्यनाथ पर पलटवार, बोलीं- हमें रोमियो भी पसंद हैं

तृणमूल कांग्रेस सांसद महुआ मोइत्रा ने कहा कि अजय बिष्ट उर्फ मुख्यमंत्री योगी का कहना है कि बंगाल में भाजपा की सरकार बनने पर एंटी-रोमियो दस्ता बनाया जाएगा। हम बंगाली दिल से पसंद करने वाले लोग हैं !

कोलकाता। तृणमूल कांग्रेस सांसद महुआ मोइत्रा ने उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर पलटवार करते हुए कहा कि पश्चिम बंगाल के लोग रोमियो को पसंद करते हैं। दरअसल योगी आदित्यनाथ ने गुरुवार को हुगली में एक जनसभा को संबोधित किया था। जहां पर उन्होंने कहा था कि अगर बंगाल में भाजपा की सरकार बनती है तो उत्तर प्रदेश की तरह यहां पर भी एंटी-रोमियो दस्ता बनाया जाएगा। 

इसे भी पढ़ें: ममता ने शांति बनाए रखने की अपील की, CRPF पर मतदाताओं पर गोलीबारी करने का लगाया आरोप 

योगी आदित्यनाथ के इस बयान पर तृणमूल कांग्रेस सांसद महुआ मोइत्रा का ट्वीट सामने आया। जिसमें उन्होंने लिखा कि अजय बिष्ट उर्फ मुख्यमंत्री योगी का कहना है कि बंगाल में भाजपा की सरकार बनने पर एंटी-रोमियो दस्ता बनाया जाएगा। हम बंगाली दिल से पसंद करने वाले लोग हैं ! हमें अपना संगीत, अपनी कविताएं, अपनी मिष्टी और हां रोमियो भी पसंद हैं !

हुगली जिले में एक चुनावी रैली को संबोधित करते हुए योगी आदित्यनाथ ने प्रदेश की ममता बनर्जी सरकार पर जमकर निशाना साधा था। इस दौरान उन्होंने कहा था कि ममता बनर्जी ने 10 साल पहले जिस परिवर्तन का वादा किया था, वह कहां है ? उन्होंने कहा था कि ममता दीदी ने बंगाल को 'मां, माटी और मानुष' का नारा दिया था। आज क्या हुआ इन नारों का। हम बंगाल में यही पूछने आए हैं। 

इसे भी पढ़ें: बंगाल में मतदान के दौरान पहले स्थानीय लोगों ने किया था हमला, फिर केंद्रीय बलों ने चलाई गोलियां... 

उन्होंने कहा था कि बंगाल की बहन, मां, बेटियां असुरक्षित क्यों महसूस कर रही हैं। ऐसी स्थिति यहां पर क्यों पैदा हुई है। बंगाल की माटी जो आध्यात्मिकों, वैज्ञानिकों, समाज-सुधारकों को पैदा करने वाली रही है, आज वहां पर हताशा और निराशा क्यों है। योगी आदित्यनाथ ने कहा था कि बंगाल की धरती ने ममता दीदी को 10 वर्ष का कार्यकाल दिया था लेकिन आपकी सहानुभूति यहां के युवाओं, किसानों, बहन-बेटियों, विकास के प्रति नहीं दिखती है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

Prabhasakshi logoखबरें और भी हैं...

राष्ट्रीय

झरोखे से...