हम सभी जातियों की समानता के लिए करेंगे संघर्ष: राजा भैया

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 30, 2018   17:23
हम सभी जातियों की समानता के लिए करेंगे संघर्ष: राजा भैया

सिंह ने राजनीति में उनके 25 साल पूरे होने के मौके पर आयोजित रैली में कहा, ''हम सभी धर्मों और जातियों की समानता के लिए संघर्ष करेंगे।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश में छह बार निर्दलीय विधायक रहे रघुराज प्रताप सिंह उर्फ राजा भैया ने शुक्रवार को अपनी जनसत्ता पार्टी की विधिवत शुरूआत की और कहा कि उनकी पार्टी सभी जातियों की समानता के लिए संघर्ष करेगी।

यह भी पढ़ें: योगी के मंत्री का आरोप, कहा- भाजपा के ‘एजेंट’ हैं शिवपाल यादव

सिंह ने राजनीति में उनके 25 साल पूरे होने के मौके पर आयोजित रैली में कहा, 'हम सभी धर्मों और जातियों की समानता के लिए संघर्ष करेंगे। अनुसूचित जाति एवं जनजाति कानून को साल दर साल और अधिक पेचीदा बना दिया गया है। उच्चतम न्यायालय द्वारा इसे असंवैधानिक करार दिये जाने के बाद सभी पार्टियां संसद से कानून बनाने को लेकर एकजुट हो गयीं।'

उन्होंने कहा कि बलात्कार और हत्या के मामलों में मुआवजे का अलग अलग नियम क्यों है। जघन्य अपराधों के लिए एक जैसा मुआवजा होना चाहिए। हम समानता के लिए संघर्ष शुरू करेंगे। हम प्रोन्नति में आरक्षण के खिलाफ हैं।

यह भी पढ़ें: विपक्ष के महागठबंधन में 50 प्रतिशत सीटें चाहिये: शिवपाल यादव

प्रतापगढ की कुंडा विधानसभा सीट से विधायक सिंह ने कहा कि नयी पार्टी के पंजीकरण के लिए चुनाव आयोग से संपर्क किया गया है। उसके बाद कार्यकारिणी का गठन होगा, सदस्यता अभियान शुरू किया जाएगा और घोषणापत्र जारी किया जाएगा। उन्होंने स्पष्ट किया कि आने वाले दिनों में वह दलित विरोधी कहे जा सकते हैं लेकिन वह दलित विरोधी नहीं हैं बल्कि केवल समानता की बात कर रहे हैं। उन्होंने आरोप लगाया कि सभी राजनीतिक दल जाति एवं धर्म के आधार पर समाज को बांटने में लगे हैं। हम भाईचारा और एकता चाहते हैं। सिंह प्रदेश में अखिलेश यादव, कल्याण सिंह और राजनाथ सिंह की सरकारों में मंत्री रह चुके हैं।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।