दो बार प्रधानमंत्री बनने के बाद क्या है पीएम मोदी का अगला टारगेट? खुद ही किया बड़ा खुलासा

दो बार प्रधानमंत्री बनने के बाद क्या है पीएम मोदी का अगला टारगेट? खुद ही किया बड़ा खुलासा
ANI

मोदी ने कहा कि उनको (विपक्षी नेता) लगता था कि दो बार प्रधानमंत्री बन गया मतलब बहुत कुछ हो गया। उनको पता नहीं है मोदी किसी अलग मिट्टी का है। ये गुजरत की धरती ने उसको तैयार किया है और इसलिए जो भी हो गया, अच्छा हो गया ,चलो अब आराम करो, नहीं मेरा सपना है – सैचुरेशन।’’

वर्तमान में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के सबसे लोकप्रिय नेताओं में से एक हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के चाहने वाले ना सिर्फ देश बल्कि विदेशों में भी हैं। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जहां भी जाते हैं वहां उनका अलग ही कद दिखाई देता है। प्रधानमंत्री के नेतृत्व में भाजपा ने दो बार चुनाव जीता है। यानी कि नरेंद्र मोदी इस देश के दो बार प्रधानमंत्री बन चुके हैं। लेकिन सबसे बड़ा सवाल यही है कि नरेंद्र मोदी का अगला लक्ष्य क्या है? इसी को लेकर आज प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बड़ा खुलासा किया। नरेंद्र मोदी ने साफ तौर पर कहा कि भले ही वह देश के दो बार प्रधानमंत्री बन गए हैं लेकिन अभी उनका इरादा आराम करने का नहीं है।

इसे भी पढ़ें: पूर्वोत्तर की चुनौतियों के आधार पर उसके लिए कार्य योजना तैयार करें : लोकसभा अध्यक्ष

इसके साथ ही प्रधानमंत्री ने कहा कि अभी उनका सपना सरकारी योजनाओं का शत प्रतिशत लक्ष्य हासिल करना है और इसके लिए वह नए संकल्पों और नई ऊर्जा के साथ जुट जाने की तैयारी में हैं। प्रधानमंत्री ने बताया कि एक दिन विपक्ष के एक ‘‘बहुत बड़े नेता’’ उनसे मिलने आए थे और उन्होंने उनसे कहा था कि ‘‘मोदी जी ये क्या करना है। दो दो बार आपको देश ने प्रधानमंत्री बना दिया। अब क्या करना है।’’ प्रधानमंत्री ने किसी नेता का नाम तो नहीं लिया लेकिन कहा कि वो उनका राजनीतिक विरोध करते रहते हैं लेकिन ‘‘मैं उनका आदर भी करता रहता हूं’’। दरअसल, मोदी ‘‘उत्कर्ष समारोह’’ को वीडियो कांफ्रेंस के माध्यम से संबोधित कर रहे थे।  

इसे भी पढ़ें: राहुल को अनेक ईमेल भेजने के बाद भी नहीं सुधरे हालात, अब कांग्रेस नेता ने सोनिया को भेजा त्यागपत्र, पीएम से बीते दिनों की थी मुलाकात

मोदी ने कहा कि उनको (विपक्षी नेता) लगता था कि दो बार प्रधानमंत्री बन गया मतलब बहुत कुछ हो गया। उनको पता नहीं है मोदी किसी अलग मिट्टी का है। ये गुजरत की धरती ने उसको तैयार किया है और इसलिए जो भी हो गया, अच्छा हो गया ,चलो अब आराम करो, नहीं मेरा सपना है – सैचुरेशन।’’ उन्होंने कहा कि योजनाओं के शत-प्रतिशत लक्ष्य की तरफ उनकी सरकार आगे बढ़ी है और अब सरकारी मशीनरी को भी इसकी आदत डालनी है। उन्होंने कहा कि पिछले करीब आठ वर्षों में सभी के प्रयासों से अनेक योजनाओं को शत प्रतिशत ‘‘सैचुरेशन’’ के करीब-करीब ला पाने में सफलता मिली है।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।