चुनाव आते ही खुद को पीड़ित के तौर पर पेश करने लगते हैं PM मोदी: कांग्रेस

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 27, 2018   16:16
चुनाव आते ही खुद को पीड़ित के तौर पर पेश करने लगते हैं PM मोदी: कांग्रेस

कांग्रेस के प्रवक्त मनीष तिवारी ने संवाददाताओं से कहा, ''छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश से जो रुझान और जानकारी मिली है उससे जाहिर होता है कि यह वक्त बदलाव का है।

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने मंगलवार को आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपनी 'नाकामियों' से लोगों का ध्यान भटकाने के लिए मौजूदा विधानसभा चुनावों में 'खुद को पीड़ित के तौर पर पेश करने की राजनीति' कर रहे हैं। पार्टी ने यह भी दावा किया कि देश की जनता बदलाव चाहती है और इस बदलाव का रुझान कांग्रेस की तरफ है। कांग्रेस के प्रवक्त मनीष तिवारी ने संवाददाताओं से कहा, 'छत्तीसगढ़ और मध्य प्रदेश से जो रुझान और जानकारी मिली है उससे जाहिर होता है कि यह वक्त बदलाव का है। चुनाव वाले पांचों राज्यों में जनता बदलाव चाहती है और बदलाव का झुकाव कांग्रेस की तरफ है।' 

उन्होंने कहा, 'पहले गुजरात के चुनाव और अब पांच राज्यों के चुनाव के दौरान विचित्र संवाद देखने को मिला है। वो यह है कि प्रधानमंत्री खुद को पीड़ित के तौर पर पेश करने की राजनीति कर रहे हैं।' तिवारी ने कहा, ' वास्तविकता यह है कि मोदी जी इस देश के हुक्मरान है। भारत की चुनौतियों और समस्याओं से निपटने की जिम्मेदारी उनकी है। लेकिन अपनी नाकामियों से ध्यान भटकाने के लिए पीड़ित होने की राजनीति करते हैं।' 

यह भी पढ़ें: पुजारी का दावा: राहुल गांधी हैं कश्मीरी ब्राह्मण और गोत्र दत्तात्रेय है

उन्होंने सवाल किया, 'प्रधानमंत्री जी को यह बताना चाहिए कि जब कच्चे तेल की कीमत करीब 58 डॉलर प्रति बैरल हो गयी है तो फिर पेट्रोल की कीमत 80-90 रुपये क्यों है?' उन्होंने पूछा, 'गैस का सिलेंडर 1000 रुपये का क्यों मिल रहा है? प्रधानमंत्री जी क्यों नहीं बताते कि रुपये में गिरावट क्यों आ रही है? 10 करोड़ नौकरियों का क्या हुआ?'

यह भी पढ़ें:  न्यायाधीशों को महाभियोग के नाम पर डराकर राम मंदिर की सुनवाई रुकवाती है कांग्रेस: मोदी

कांग्रेस प्रवक्ता ने कहा, ' हम प्रधानमंत्री जी से यह पूछना चाहते हैं कि 2014 में लोगों ने जनादेश दिया था, उस जनादेश पर खरा उतरने की बजाय पीड़ित होने की राजनीति क्यों कर रहे हैं?" उन्होंने यह भी आरोप लगाया कि देश की मौजूदा राजनीति में सार्वजनिक विमर्श के स्तर में गिरावट के लिए प्रधानमंत्री मोदी जिम्मेदार हैं क्योंकि वह खुद ऐसी भाषा का इस्तेमाल करते हैं जो उनके पद को शोभा नहीं देती है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।