जब आतंकवाद पर पूरे राष्ट्र को पीड़ा होती है तो राहुल गांधी को क्यों होती है खुशी?

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Mar 14 2019 7:12PM
जब आतंकवाद पर पूरे राष्ट्र को पीड़ा होती है तो राहुल गांधी को क्यों होती है खुशी?
Image Source: Google

गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र में चीन ने एक बार फिर जैश सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने संबंधी प्रस्ताव के विरोध में अपने वीटो अधिकार का इस्तेमाल किया।

नयी दिल्ली। आतंकी गुट जैश ए मुहम्मद के मुखिया मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के मामले में चीन के वीटो के मुद्दे पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी के आरोपों पर पलटवार करते हुए भाजपा ने सवाल किया कि जब आतंकवाद पर समग्र राष्ट्र को पीड़ा होती है तो आपको खुशी क्यों होती है? भाजपा के वरिष्ठ नेता रविशंकर प्रसाद ने बृहस्पतिवार को यहां संवाददाताओं से कहा,‘‘ 2009 में सोनिया गांधी-मनमोहन सिंह की कांग्रेस-नीत संप्रग सरकार के समय भी चीन ने इसी तकनीकी आपत्तियों का हवाला देते हुए मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित नहीं होने दिया था। राहुल गांधी क्या आपने तब इस विषय पर कोई बयान दिया था या कोई ट्वीट किया था?’’ उन्होंने सवाल किया कि जब आतंकवाद के विषय पर समग्र राष्ट्र को पीड़ा होती है तब आपको खुशी क्यों होती है?

 


गौरतलब है कि संयुक्त राष्ट्र में चीन ने एक बार फिर जैश सरगना मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने संबंधी प्रस्ताव के विरोध में अपने वीटो अधिकार का इस्तेमाल किया। इस पर कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने आरोप लगाया कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी चीन के राष्ट्रपति शी चिनफिंग से डरे हुए हैं। राहुल ने ट्वीट कर दावा किया, मोदी की चीन कूटनीति गुजरात में शी के साथ झूला झूलना, दिल्ली में गले लगाना, चीन में घुटने टेक देना रही। कांग्रेस पर निशाना साधते हुए वित्त मंत्री अरूण जेटली ने बृहस्पतिवार को अपने ट्वीट में कहा कि प्रथम प्रधानमंत्री जवाहरलाल नेहरू मूल रूप से दोषी हैं जिन्होंने संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की स्थायी सदस्यता के लिये भारत की बजाय चीन का पक्ष लिया था। प्रसाद ने कहा ‘‘राहुल गांधी जी, चीन की बात निकलेगी तब बहुत दूर तलक जायेगी और इसमें आपकी विरासत की भूमिका की भी चर्चा होगी। आज आपकी विरासत के कारण ही चीन सुरक्षा परिषद का सदस्य है।’’ उन्होंने कहा कि विदेश नीति में क्या, कब, कितना बोलना है..यह महत्वपूर्ण होता है। इस मुद्दे पर पूरे देश से एक स्वर निकल रहा है। 
प्रसाद ने कांग्रेस नेता शशि थरूर की पुस्तक उद्धृत करते हुए कहा ‘‘...विदेश विभाग के, (संबंधित) फाइलें देखने वाले वरिष्ठ पदाधिकारियों ने शपथपूर्वक कहा था कि जवाहरलाल नेहरू ने सुरक्षा परिषद की इस सीट की पेशकश चीन को की थी।’’ प्रसाद ने कहा, ‘‘ यदि आपके नाना ने भारत की कीमत पर वह सीट चीन को तोहफे में नहीं दी होती तो सुरक्षा परिषद में चीन नहीं होता।’’ कांग्रेस अध्यक्ष पर निशाना साधते हुए केंद्रीय मंत्री ने कहा कि आपके बयान और ट्वीट जैश के दफ्तर में बड़े चाव से पढ़े जायेंगे और दिखाये जायेंगे। प्रसाद ने कहा कि मसूद अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के लिए इस बार प्रस्ताव अमेरिका, ब्रिटेन और फ्रांस लेकर आए। चीन को छोड़कर बाकी सभी देशों ने इस प्रस्ताव का समर्थन किया। ‘‘चीन के इस कदम से भारत और भारतवासी बहुत दुखी हैं।’’ भाजपा नेता ने कहा, ‘‘अजहर को वैश्विक आतंकी घोषित करने के मुद्दे पर आज चीन को छोड़कर पूरी दुनिया भारत के साथ खड़ी है। यह एक तरह से भारत की कूटनीतिक जीत है।’’

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप   


Related Story

Related Video