मेहुल चौकसी एंटीगुआ से अब कहां भाग गया? जांच में जुटी पुलिस

मेहुल चौकसी एंटीगुआ से अब कहां भाग गया? जांच में जुटी पुलिस

मेहुल चौकसी ने अपने भागने के पहले ही कैरेबियाई देश एंटीगुआ में नागरिकता भी हासिल कर ली थी। कैरेबियाई देश एंटीगुआ में कोई भी मोटी रकम देकर नागरिकता हासिल कर सकता है। चौकसी जनवरी 2018 से यहां शरण लिए हुए है।

भारत का भगौड़ा बिजनेसमैन मेहुल चौकसी और उसके भांजे नीरव मोदी पर पंजाब नेशनल बैंक के 14 हजार करोड़ रुपये की धोखाधड़ी का आरोप है। ये तो सभी जानते हैं कि मेहुल चौकसी भारत से भागकर एंटीगुआ में बस गया था। भारत सरकार उसके प्रत्यर्पण की कोशिशों में जुटी हुई थी। लेकिन अब खबर है कि मेहुल चौकसी एंटीगुआ से लापता हो गया है। सीबीआई ने इंटरपोल समेत एंटीगुआ दूतावास से संपर्क साधा है  और राजनयिक स्तर पर वास्तविक सच्चाई का पता लगाने की कोशिश की जा रही है। 

इसे भी पढ़ें: आर्थिक क्षेत्र में गिरावट को थामने के लिए रिजर्व बैंक ने जारी किए नए सुझाव

मेहुल चौकसी ने अपने भागने के पहले ही कैरेबियाई देश एंटीगुआ में नागरिकता भी हासिल कर ली थी। कैरेबियाई देश एंटीगुआ में कोई भी मोटी रकम देकर नागरिकता हासिल कर सकता है। चौकसी जनवरी 2018 से यहां शरण लिए हुए है। एक तरफ मेहुल की तरफ से एंटीगुआ का वैद्य नागरिक होने का दावा किया जा रहा था, वहीं जांच एजेंसियों का कहना था कि उसने भारत से हजारों रुपये का घोटाला किया है औऱ गलत तरीके से जानकारी देकर एंटीगुआ की नागरिकता हासिल की है। 

इसे भी पढ़ें: बैंक शेयरों में तेजी, सेंसेक्स 300 अंक से अधिक चढ़ा; निफ्टी 15250 के करीब

उसे भारत में मुकदमा चलाने के लिए वापस लाने के लिए सीबीआई की तरफ से लगातार कोशिशें की जा रही हैं, लेकिन अभी तक कामयाबी नहीं मिल पाई है। एंटीगुआ की स्थानाई अखबारों में बताया गया है कि एंटीगुआ की पुलिस ने मेहुल चौकसी की मिसिंग रिपोर्ट दर्ज की है। बताया जा रहा है कि मेहुल को 23 मई की शाम पांच बजे के करीब आखिरी बार देखा गया था। उस वक्त वो कार में बैठकर अपने घर से दक्षिण की ओर कही जा रहा था। उसके बाद मेहुल की कार तो बरामद हो गई लेकिन उसका कुछ पता नहीं चला।  





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।