पश्चिम बंगाल में क्यों ध्यान नहीं दे रही कांग्रेस ? राहुल, प्रियंका असम में रैली करने में व्यस्त

Rahul Gandhi Priyanka
कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने चुनावी मोर्चा संभाला हुआ है लेकिन इन दोनों की रैलियां अभी तक पश्चिम बंगाल में नहीं हुई हैं।

नयी दिल्ली। पांच राज्यों में होने वाले विधानसभा चुनावों को लेकर राजनीतिक दल जोरो-शोरो से चुनावी रैलियां कर रहे हैं, लेकिन कांग्रेस की रणनीतियां अब जनता को भ्रमित कर रही हैं। देश की सबसे पुरानी पार्टी कांग्रेस कमजोर पड़ते हुए दिखाई दे रही है। जहां इस बार पश्चिम बंगाल का मुकाबला सबसे खास माना जा रहा है क्योंकि यहां पर तृणमूल कांग्रेस की सीधी टक्कर भाजपा से होने वाली है। वही भाजपा से जिसका 2016 के विधानसभा चुनाव में अता-पता नहीं था। 

इसे भी पढ़ें: राम मंदिर के लिए बलिदान देने वाले कोठारी बंधुओं की कहानी, जिन्हें CM योगी ने नंदीग्राम में किया याद 

कांग्रेस के पास महज दो चेहरे

कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष राहुल गांधी और महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने चुनावी मोर्चा संभाला हुआ है लेकिन इन दोनों की रैलियां अभी तक पश्चिम बंगाल में नहीं हुई हैं। सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक कांग्रेस नहीं चाहती है कि बंगाल में त्रिकोणीय मुकाबला हो और भाजपा को उसका फायदा मिले। इसलिए राहुल गांधी और प्रियंका गांधी ने वहां पर रैली नहीं की।

जानकार बताते हैं कि कांग्रेस आला कमान द्वारा जी-23 के नेताओं को दरकिनार किए जाने की वजह से पार्टी कमजोर दिखाई दे रही है। बंगाल में अधीर रंजन चौधरी और एकाद नेताओं को छोड़ दिया जाए तो कोई बड़ा चेहरा रैली करते हुए दिखाई नहीं दे रहा है। जबकि पश्चिम बंगाल की स्टार प्रचारकों की सूची में राहुल, प्रियंका और सोनिया गांधी का नाम शामिल हैं। 

इसे भी पढ़ें: आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर तेल के दाम केंद्र ने कम किए: शिवसेना 

क्या कांग्रेस के लिए बंगाल खास नहीं ?

लेफ्ट के साथ मिलकर चुनाव लड़ रही कांग्रेस पार्टी को लेकर कई तरह के सवाल खड़े हो रहे हैं। सियासी गलियारों में चर्चा है कि क्या कांग्रेस पार्टी के बंगाल की कोई अहमियत नहीं है ? सूत्रों से मिली जानकारी के मुताबिक कांग्रेस चाहती है कि यहां पर त्रिकोणीय मुकाबले का फायदा भाजपा को न हो। इसलिए अभी तक राहुल, प्रियंका ने बंगाल में रैली नहीं की। जबकि असम और तमिलनाडु में लगातार रैलियां कर रहे हैं।

मिली जानकारी के मुताबिक राहुल गांधी असम चुनाव समाप्त होने के बाद बंगाल की तरफ ध्यान देंगे। बता दें कि 6 अप्रैल को असम में मतदाता अपने मताधिकार का इस्तेमाल करेंगे। इस समय तक आठ चरणों में होने वाले बंगाल चुनाव के तीन चरण संपन्न हो चुके होंगे और बाकी के पांच चरणों में राहुल गांधी समेत स्टार प्रचारक अपना जलवा दिखा सकते हैं।

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़