पत्रकार की हत्या को लेकर नीतीश सरकार पर बरसे तेजस्वी, बोले- मंत्री लेशी और उनके भतीजे पर चुप क्यों हैं मुखिया ?

पत्रकार की हत्या को लेकर नीतीश सरकार पर बरसे तेजस्वी, बोले- मंत्री लेशी और उनके भतीजे पर चुप क्यों हैं मुखिया ?

राजद नेता तेजस्वी यादव ने कहा कि नीतीश कुमार के मंत्री लेशी सिंह और उनके भतीजे आरोपी हैं। एसएचओ को निलंबित कर दिया गया है, लेकिन जब मृतक के रिश्तेदार लेशी सिंह और उसके भतीजे पर स्पष्ट रूप से आरोप लगा रहे हैं तो राज्य सरकार और उसके मुखिया चुप क्यों हैं ?

पटना। बिहार के मधुबनी में पत्रकार और आरटीआई कार्यकर्ता की हत्या मामले विपक्ष के नेता तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार सरकार पर जमकर निशाना साधा है। उन्होंने रविवार को प्रेस कॉन्फ्रेंस कर कहा कि बिहार पुलिस पूरी तरह से नीतीश कुमार की पुलिस हो गई है। अगर जांच होने लगे तो नीतीश कुमार की पूरी कैबिनेट मंत्री से लेकर विधायक तक सब लोग जेल में मिलेंगे। 

इसे भी पढ़ें: भाजपा तेजस्वी, ओजस्वी और विजयी बन कर निकलेगी : कश्यप 

राजद नेता ने कहा कि पहले लोग गोली मारकर भाग जाते थे। आजकल लोग गोली मारकर दोबारा देखने जाते हैं कि आदमी जिंदा है कि मरा है। नीतीश कुमार के सुशासन के राज में कितना भारी अंतर आ गया है। समाचार एजेंसी एएआई के मुताबिक राजद नेता ने कहा कि नीतीश कुमार के मंत्री लेशी सिंह और उनके भतीजे आरोपी हैं। एसएचओ को निलंबित कर दिया गया है, लेकिन जब मृतक के रिश्तेदार लेशी सिंह और उसके भतीजे पर स्पष्ट रूप से आरोप लगा रहे हैं तो राज्य सरकार और उसके मुखिया चुप क्यों हैं ?

उन्होंने कहा कि 16 साल सत्ता में रहने के बाद भी नीतीश कुमार को यह बात समझ नहीं आई है कि लोकतंत्र में नागरिक सेवा, सुरक्षा और विकास कार्यों के लिए सरकार चुनती है, हर जिम्मेदारी से पल्ला झाड़ते हुए सत्ता सुख भोगने के लिए नहीं।

सरकार के पास नहीं है जवाब

इसी बीच तेजस्वी यादव ने नीतीश कुमार को राजद काल के आंकड़ों का अध्ययन करने की नसीहत दी और कहा कि मैंने अनेक बार विधानसभा में सबूत के साथ आंकड़े पेश किए हैं लेकिन उन्होंने मेरे सवालों का जवाब नहीं दिया। क्योंकि उनके पास जवाब ही नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: उपचुनाव में नीतीश का तीर निशाने पर, बुझी लालू की लालटेन, कांग्रेस ने बिगाड़ा काम 

उन्होंने कहा कि पत्रकार और आरटीआई कार्यकर्ता अविनाश झा की लापता रहने के बाद संदिग्ध हालत में लाश मिली है। सभी का मानना है कि अस्पताल माफिया के विरुद्ध आवाज उठाने पर सरकार में बैठे लोगों ने उनकी हत्या करवाई है। आपको बता दें कि फर्जी क्लीनिक को लेकर फेसबुक पर लिखे पोस्ट के दो दिन बाद अविनाश झा लापता हो गए थे और फिर शुक्रवार को जली हालत में उनकी लाश मिली।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।