राहुल गांधी का सवाल, भ्रष्टाचार, किसान और रोजगार जैसे मुद्दों पर क्यों चुप हैं PM ?

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  नवंबर 23, 2018   15:22
राहुल गांधी का सवाल, भ्रष्टाचार, किसान और रोजगार जैसे मुद्दों पर क्यों चुप हैं PM ?

विदिशा जिले के गंज बासौदा में एक चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए गांधी ने कहा, ‘‘मोदी जी चुनाव से पहले हर भाषण में किसानों, भ्रष्टाचार, रोजगार की बात करते थे।

विदिशा (मध्यप्रदेश)। कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने शुक्रवार को कहा कि पूरा देश समझता है कि प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी झूठ बोलते हैं। 2014 के चुनावों से पहले वह अपने प्रत्येक भाषण में किसान, भ्रष्टाचार और रोजगार जैसे मुद्दों पर बात करते थे लेकिन अब इन मुद्दों पर चुप रहते हैं।

विदिशा जिले के गंज बासौदा में एक चुनावी सभा को सम्बोधित करते हुए गांधी ने कहा, ‘‘मोदी जी चुनाव से पहले हर भाषण में किसानों, भ्रष्टाचार, रोजगार की बात करते थे। अब उनके भाषण सुनिये, वह किसान, भ्रष्टाचार, रोजगार की बात नहीं करते हैं। पूरा देश समझता है कि नरेन्द्र मोदी जी झूठ बोलते हैं।’’ 

उन्होंने कहा कि मोदी जी ने प्रधानमंत्री बनने से पहले दो करोड़ युवाओं को रोजगार देने, किसानों का कर्ज माफ करने, बोनस और कृषि उत्पादों के लिये बेहतर कीमत का वादा किया था। गांधी ने कहा, ‘‘मैं उनसे पूछना चाहता हूं कि इन वादों को पूरा क्यों नहीं किया गया।’’ उन्होंने कहा कि मैंने मोदी जी से सवाल किया था, ‘‘मोदी जी अगर देश के 15 बड़े अमीर लोगों का 3.5 लाख करोड़ रुपये माफ कर सकते हैं तो किसान का कर्ज क्यों नहीं माफ कर सकते। लेकिन मोदी खामोश रहे और मुझे कोई जवाब नहीं दिया।’’ 

गांधी ने मध्यप्रदेश में कांग्रेस की सरकार बनने का दावा करते हुए कहा कि पार्टी के सत्ता में आने के 10 दिन के भीतर किसानों का कर्ज माफ किया जाएगा। उन्होंने कहा कि पांच चुनावी राज्यों मध्यप्रदेश, राजस्थान, तेलंगाना, छत्तीसगढ़ और मिजोरम में बेरोजगारी और किसानों की परेशानी मुख्य मुद्दा हैं। उन्होंने कहा कि चीन में रोज 50,000 युवाओं को रोजगार मिलता हैं जबकि मेक इन इंडिया, कौशल विकास जैसी केन्द्र की कई योजनाओं के बाद भी हमारे देश में रोजाना केवल 450 युवाओं को रोजगार मिल पाता है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।