सीबीआई के साथ दस्तावेज़ साझा करने के विवाद को हल करेंगे: महाराष्ट्र सरकार

Maharashtra government
महाराष्ट्र सरकार ने मंगलवार को बंबई उच्च न्यायालय को सूचित किया कि वह राज्य के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) की जांच के लिए दस्तावेज़ साझा करने को लेकर उपजे मुद्दे को केंद्रीय एजेंसी के साथ सौहार्दपूर्ण ढंग से हल करेगी।

मुंबई। महाराष्ट्र सरकार ने मंगलवार को बंबई उच्च न्यायालय को सूचित किया कि वह राज्य के पूर्व गृह मंत्री अनिल देशमुख के खिलाफ केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (सीबीआई) की जांच के लिए दस्तावेज़ साझा करने को लेकर उपजे मुद्दे को केंद्रीय एजेंसी के साथ सौहार्दपूर्ण ढंग से हल करेगी। राज्य सरकार ने पहले दावा किया था कि सीबीआई की ओर से मांगे गए दस्तावेजों का राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी (राकांपा) नेता देशमुख के खिलाफ भ्रष्टाचार के आरोपों की एजेंसी की जांच से कोई संबंध नहीं है।

इसे भी पढ़ें: वन मंत्री के द्वारा 71वें वन महोत्सव के मौके पर कई नये प्रोजैक्टों की शुरूआत,वातावरण संतुलन बनाये रखने पर दिया ज़ोर

न्यायमूर्ति एस एस शिंदे और न्यायमूर्ति एन जे जमादार की खंडपीठ सीबीआई द्वारा दायर एक आवेदन पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें आरोप लगाया गया है कि राज्य सरकार देशमुख के खिलाफ जांच के संबंध में कुछ दस्तावेज देने से मना करके सहयोग नहीं कर रही है। अदालत ने पिछले हफ्ते राज्य सरकार से इस मामले पर पुनर्विचार करने को और यह बताने को कहा था कि क्या वह कोई दस्तावेज साझा करने को तैयार है या नहीं। राज्य सरकार की ओर से पेश हुए वरिष्ठ वकील रफीक दादा ने मंगलवार को उच्च न्यायालय की पीठ को बताया कि उनकी सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक हुई है।

इसे भी पढ़ें: हिरासत में लेते ही नारायण राणे का बढ़ा ब्लड प्रेशर, जेपी नड्डा बोले- ऐसी कार्रवाई से न हम डरेंगे, न दबेंगे

उन्होंने कहा, “हम मामले को सुलझने में सक्षम होंगे। हमें उम्मीद है कि इसे निपटा लेंगे।” उन्होंने अदालत से कहा कि सीबीआई की ओर से पेश हुए अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल अनिल सिंह के साथ बैठक की जाएगी। इसके बाद पीठ ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 26 अगस्त की तारीख तय की।

Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़