राहुल की भारत जोड़ो यात्रा में शामिल होंगे तेजस्वी? 3570 किलोमीटर के सफर के लिए लालू से मुलाकात कर कांग्रेस नेताओं ने किया आमंत्रित

Tejashwi
Creative Common
अभिनय आकाश । Sep 19, 2022 1:47PM
बिहार में कांग्रेस नेताओं ने 18 सितंबर यानी रविवार के दिन को राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता और उनके माता-पिता, पूर्व मुख्यमंत्रियों लालू यादव और राबड़ी देवी से मुलाकात की और तेजस्वी यादव से राहुल गांधी के पैदल मार्च में शामिल होने का आग्रह किया।
कांग्रेस की कन्याकुमारी से कश्मीर तक की 3570 किलोमीटर की 150 दिनों तक चलने वाली भारत जोड़ो यात्रा लगातार अपने पड़वा की ओर बढ़ रही है। कांग्रेस नेता राहुल गांधी ने बिहार के उपमुख्यमंत्री तेजस्वी यादव को अपनी भारत जोड़ी यात्रा में शामिल होने का न्योता दिया है। बिहार में कांग्रेस नेताओं ने 18 सितंबर यानी रविवार के दिन को राष्ट्रीय जनता दल (राजद) के नेता और उनके माता-पिता, पूर्व मुख्यमंत्रियों लालू यादव और राबड़ी देवी से मुलाकात की और तेजस्वी यादव से राहुल गांधी के पैदल मार्च में शामिल होने का आग्रह किया। कांग्रेस नेताओं ने कहा कि 12 राज्यों के अभियान को जबरदस्त जन समर्थन मिला है।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस अध्यक्ष चुनाव को लेकर हलचल तेज, सोनिया गांधी से मिलने पहुंचे शशि थरूर

यह निमंत्रण बिहार के डिप्टी सीएम द्वारा विपक्ष के कांग्रेस के नेतृत्व पर संदेह जताने के कुछ दिनों बाद आया है और संकेत दिया है कि पार्टी को कुछ क्षेत्रों में पीछे हटना चाहिए। ”राजद नेता ने पिछले सप्ताह कहा था कि कांग्रेस को उन सीटों पर लड़ना चाहिए जहां उसका सीधा मुकाबला बीजेपी से है, लेकिन जहां भी क्षेत्रीय दल मजबूत हों, जैसे कि बिहार में उसे हमें ड्राइविंग सीट पर बैठने देना चाहिए। हालांकि, तेजस्वी यादव को निमंत्रण विपक्ष के नेतृत्व के साथ क्षेत्रीय सहयोगियों को साथ लाने के कांग्रेस के प्रयास का संकेत है।

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस 27 साल से नहीं आई तो अब क्या आएगी, राघव चड्ढा का दावा- गुजरात चुनाव आप vs बीजेपी बनता जा रहा

रिपोर्ट्स के मुताबिक, बिहार के मुख्यमंत्री नीतीश कुमार को भी न्योता मिला है। गौर करने वाली बात ये है कि  यह अभी तक साफ नहीं है कि ये नेता राहुल गांधी का समर्थन करेंगे या नहीं। इस बीच, नीतीश कुमार के भाजपा छोड़ने और राजद, कांग्रेस और अन्य विपक्षी दलों के साथ एक नई सरकार स्थापित करने के फैसले ने विपक्ष के हौसले जरूर बुलंद किए हैं। कांग्रेस ने इस बात पर भी जोर दिया कि वह खुद को और कमजोर नहीं होने देगी। कांग्रेस के वरिष्ठ नेता जयराम रमेश ने कहा, "अगर (यात्रा) विपक्षी एकता में परिणत होती है, तो यह अच्छा है और हम इसका स्वागत करते हैं. लेकिन हमारी प्राथमिकता पार्टी संगठन को मजबूत करना है।

अन्य न्यूज़