सरकार बनने पर किसानों का कर्जा करेंगे माफ, 20 लाख युवाओं को देंगे रोजगार: प्रियंका गांधी

सरकार बनने पर किसानों का कर्जा करेंगे माफ, 20 लाख युवाओं को देंगे रोजगार: प्रियंका गांधी

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा कि महिलाओं के लिए हम अलग से एक घोषणा पत्र जारी करेंगे। वह करीब एक हफ्ते के अंदर निकलेगा। महिलाओं के लिए जो घोषणाएं करनी हैं, वे सभी उस घोषणापत्र में होंगी। हालांकि कांग्रेस ने पार्टी प्रतिज्ञा यात्रा के दौरान 7 प्रतिज्ञाएं लीं।

लखनऊ। उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव को लेकर राजनीतिक पार्टियां तरह-तरह की योजनाओं पर काम कर रही हैं। इसी बीच कांग्रेस ने पार्टी प्रतिज्ञा यात्रा की शुरुआत की। आपको बता दें कि कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी वाड्रा ने बाराबंकी में झंडा दिखाकर कांग्रेस प्रतिज्ञा यात्रा को रवाना किया। इस दौरान प्रियंका गांधी ने किसानों का कर्ज माफ करने का ऐलान किया है। 

इसे भी पढ़ें: उत्तर प्रदेश में सजने लगा चुनावी समर, महारथी बदलने लगे हैं खेमे, हो रही वादों की बौछार 

प्रतिज्ञा यात्रा की शुरुआत करने के साथ ही कांग्रेस ने सात प्रतिज्ञाएं ली। पहली प्रतिज्ञा- महिलाओं को टिकटों में 40 फीसदी की हिस्सेदारी देंगे। दूसरी प्रतिज्ञा- सरकार बनने पर लड़कियों को स्मार्टफोन और स्कूटी बांटेंगे। तीसरी प्रतिज्ञा- किसानों का पूरा कर्जा माफ किया जाएगा। चौथी प्रतिज्ञा- 2500 रुपये में गेहूं-धान (प्रति क्विंटल) की खरीद होगी और गन्ना किसान अपनी फसल के लिए 400 रुपये प्रति क्विंटल की दर से कीमत पाएगा। पांचवीं प्रतिज्ञा- बिजली बिल सबका हाफ, कोरोना काल का बकाया साफ। छठी प्रतिज्ञा- दूर करेंगे कोरोना की आर्थिक मार, परिवार को देंगे 25 हजार। सातवीं और अंतिम प्रतिज्ञा- 20 लाख युवाओं को सरकारी नौकरी देंगे।

इसे भी पढ़ें: प्रियंका गांधी की यूपी में सक्रियता से परेशान सपा मुकाबले में डिंपल यादव को उतारेगी  

महिलाओं के लिए अलग घोषणा पत्र होगा जारी

कांग्रेस महासचिव ने कहा कि महिलाओं के लिए हम अलग से एक घोषणा पत्र जारी करेंगे। वह करीब एक हफ्ते के अंदर निकलेगा। महिलाओं के लिए जो घोषणाएं करनी हैं, वे सभी उस घोषणापत्र में होंगी।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।