सोनिया गांधी को पत्र लिखना उचित नहीं, CWC की बैठक में उठाया जा सकता था मुद्दा: दिग्विजय

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  अगस्त 26, 2020   17:40
सोनिया गांधी को पत्र लिखना उचित नहीं, CWC की बैठक में उठाया जा सकता था मुद्दा: दिग्विजय

कांग्रेस के वरिष्ठ नेता दिग्विजय सिंह ने कहा कि मैं कार्यसमिति का सदस्य नहीं हूं, ना ही मैंने वह पत्र देखा है... लेकिन चिट्ठी लिखने से बेहतर होता कि चार या पांच लोग जो सीडब्ल्यूसी के सदस्य हैं, वे चर्चा के लिये अनुरोध कर सकते थे...

जबलपुर। कांग्रेस के संगठन में व्यापक बदलाव की मांग को लेकर पार्टी अध्यक्ष सोनिया गांधी को 23 नेताओं द्वारा पत्र लिखे जाने को उचित नहीं मानते हुए वरिष्ठ कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह ने कहा है कि बेहतर होता कि पत्र लिखने या मीडिया में इसे लीक करने के बजाय ऐसे मुद्दों को कांग्रेस कार्यसमिति (सीडब्ल्यूसी) की बैठक में उठाया जाता। राज्यसभा सदस्य दिग्विजय सिंह ने बुधवार को जबलपुर में पत्रकारों से कहा, ‘‘मैं कार्यसमिति का सदस्य नहीं हूं, ना ही मैंने वह पत्र देखा है... लेकिन चिट्ठी लिखने से बेहतर होता कि चार या पांच लोग जो सीडब्ल्यूसी के सदस्य हैं, वे चर्चा के लिये अनुरोध कर सकते थे... चिट्ठी लिखने और उसे मीडिया में लीक करना यह उचित नहीं है।’’ 

इसे भी पढ़ें: 7 राज्यों के मुख्यमंत्रियों की सोनिया के साथ बैठक, JEE और नीट की परीक्षा के खिलाफ SC जाने की बात 

कांग्रेस नेता एक धार्मिक संत से मिलने के लिये यहां आये थे। एनईईटी व जेईई जैसी परीक्षाओं को स्थगित करने के बारे में उन्होंने कहा कि देश में कोरोना वायरस के लिये सीमित जांच सुविधा उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि रोजाना कोरोना संक्रमण के बढ़ते मामलों को देखते हुए इन परीक्षाओं के आयोजन पर निर्णय की समीक्षा के लिये उच्चतम न्यायालय में अपील करने की जरुरत है। मध्यप्रदेश में सांसदों और विधायकों को सहकारी समितियों में सदस्य के तौर पर शामिल किये जाने के फैसले पर उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान उन विधायकों को संतुष्ट करने के लिये मजबूर हैं जिन्हें मंत्रिपरिषद में स्थान नहीं मिला है। उल्लेखनीय है कि प्रदेश सरकार ने हाल ही में प्रदेश के सांसदों और विधायकों को सहकारी समितियों में सदस्य के रुप में शामिल करने का निर्णय लिया है।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।