येदियुरप्पा पर छाए संकट के बादल, 1800 करोड़ रुपये की रिश्वत के मामले में होगी जांच!

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  मार्च 22, 2019   18:02
येदियुरप्पा पर छाए संकट के बादल, 1800 करोड़ रुपये की रिश्वत के मामले में होगी जांच!

सुरजेवाला ने एक पत्रिका में छपी खबर का हवाला दिया और संवाददाताओं से कहा, ‘‘येदियुरप्पा की डायरी के रूप में खबर सामने है। हमने भी 14 फरवरी, 2017 को येदियुरप्पा और तत्कालीन केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार की बातचीत वाला एक वीडियो जारी किया था जिसमें स्पष्ट था कि भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को रिश्वत दी गई।’’

नयी दिल्ली। कांग्रेस ने शुक्रवार को एक खबर का हवाला देते हुए आरोप लगाया कि कर्नाटक का मुख्यमंत्री रहते हुए बी एस येदियुरप्पा ने भाजपा के शीर्ष नेताओं को 1800 करोड़ रुपये की रिश्वत दी जिसकी जांच लोकपाल से होनी चाहिए। पार्टी के मुख्य प्रवक्ता रणदीप सुरजेवाला ने इस मामले में प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर भी निशाना साधा और कहा कि मोदी को इस मामले में तत्काल जवाब देना चाहिए। कांग्रेस के इस आरोप पर फिलहाल भाजपा की तरफ से कोई प्रतिक्रिया नहीं आई है। सुरजेवाला ने एक पत्रिका में छपी खबर का हवाला दिया और संवाददाताओं से कहा, ‘‘येदियुरप्पा की डायरी के रूप में खबर सामने है। हमने भी 14 फरवरी, 2017 को येदियुरप्पा और तत्कालीन केंद्रीय मंत्री अनंत कुमार की बातचीत वाला एक वीडियो जारी किया था जिसमें स्पष्ट था कि भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को रिश्वत दी गई।’’

इसे भी पढ़ें: कांग्रेस और नेशनल कांफ्रेंस ने किया लोकसभा चुनाव के लिए गठबंधन

उन्होंने दावा किया कि मुख्यमंत्री रहने के दौरान 2690 करोड़ रुपये वसूले गए और इसमें से 1800 करोड़ रुपये भाजपा नेतृत्व को पहुंचाये गये। कांग्रेस नेता ने सवाल किया, ‘‘क्या यह सच नहीं है कि येदियुरप्पा की तरफ से भाजपा के शीर्ष नेतृत्व को पैसे दिए गए? जब आयकर विभाग ने इस डायरी की जांच की अनुशंसा की थी तो फिर कोई कदम क्यों नहीं उठाया गया?’’ उन्होंने कहा, ‘‘इस मामले में प्रधानमंत्री सहित संपूर्ण भाजपा नेतृत्व के खिलाफ जांच होनी चाहिए। यह लोकपाल के तहत जांच का मामला बनता है। लोकपाल को इसकी जांच करनी चाहिए।’’ एक सवाल के जवाब में सुरजेवाला ने कहा कि कांग्रेस इस मामले में कानूनी कदम उठाने पर विचार करेगी, लेकिन इस मामले में देश के ‘स्वयंभू चौकीदार’ को जवाब देना चाहिए।





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।