वायरल वीडियो में नोएडा की महिला को गाली देने वाले नेता श्रीकांत त्यागी के खिलाफ योगी प्रशासन का कड़ा एक्शन, गाड़ियों को किया जब्त

Shrikant Tyagi
viral Video
अभिनय आकाश । Aug 06, 2022 3:49PM
त्यागी खुद और उनका परिवार फरार है जबकि उसके चार साथियों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। आरोपी श्रीकांत त्यागी ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के किसान मोर्चा का सदस्य होने का दावा किया था।

नोएडा में एक वायरल वीडियो में पॉश सोसायटी में एक महिला से गाली-गलौज और बदसलूकी करते नजर आए एक छुटभैये स्थानीय नेता श्रीकांत त्यागी के खिलाफ उत्तर प्रदेश पुलिस ने सख्त कार्रवाई शुरू कर दी है। त्यागी के खिलाफ कल जहां वीडियो के आधार पर मामला दर्ज किया गया था, वहीं अब वह फरार बताया जा रहा है। पुलिस उसकी तलाश कर रही है। दंडात्मक कार्रवाई के तहत पुलिस आज उनके आवास पर पहुंची और उनकी कारों को जब्त कर लिया।

इसे भी पढ़ें: CM योगी ने महिलाओं को दिया बड़ा तोहफा, रक्षाबंधन के अवसर पर सरकारी बसों में कर सकेंगी निशुल्क यात्रा

त्यागी की तीन लग्जरी कारों को नोएडा पुलिस ने जब्त कर लिया है और कथित तौर पर उनकी एक कार पर विधायक लिखा हुआ है, भले ही वह विधायक नहीं हैं। त्यागी खुद और उनका परिवार फरार है जबकि उसके चार साथियों को पूछताछ के लिए हिरासत में लिया गया है। आरोपी श्रीकांत त्यागी ने भारतीय जनता पार्टी (भाजपा) के किसान मोर्चा का सदस्य होने का दावा किया था। बीजेपी की नोएडा इकाई के प्रमुख मनोज गुप्ता ने कहा कि त्यागी पार्टी से जुड़ा नहीं है। 

इसे भी पढ़ें: नई दिल्ली, गोवा और बेंगलुरु के लिए एयर एशिया की सेवा शुरू, CM योगी ने किया उद्घाटन

पूरी घटना हाल में नोएडा के सेक्टर-93 बी में स्थित ग्रैंड ओमेक्स सोसाइटी में हुई। त्यागी यहां पौधरोपण करना चाहते थे, लेकिन महिला ने नियमों के उल्लंघन का हवाला देते हुए इसका विरोध किया। हालांकि, नेता ने दावा किया कि ऐसा करना उनका अधिकार है। इस घटना के कई वीडियो सोशल मीडिया पर वायरल हुए हैं, जिनमें से एक में त्यागी महिला के खिलाफ कथित तौर पर अपशब्द का इस्तेमाल करते और मारपीट करते दिख रहे हैं। नेता ने महिला के पति के लिए भी कथित तौर पर अभद्र का इस्तेमाल करते हुए अपमानजनक टिप्पणी की।  

नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।

अन्य न्यूज़