योगी के मंत्री का संकल्प, कोरोना समाप्त होने तक नही ग्रहण करेंगे अन्न

योगी के मंत्री का संकल्प, कोरोना समाप्त होने तक नही ग्रहण करेंगे अन्न

अयोध्या पहुंचे प्रदेश के नगर विकास राज्य मंत्री महेश चंद्र गुप्ता ने कहा राम मंदिर निर्माण के लिए पत्थरों की आपूर्ति पर रोक लगाने वाले ही राम नगरी से शुरु कर रहे राजनीतिक यात्रा

अयोध्या। भारत ही नही विश्व से कोरोना महामारी समाप्त होने तक अन्न ग्रहण न करने का संकल्प लेकर अयोध्या पहुंचे उत्तर प्रदेश के नगर विकास राज्य मंत्री महेश चंद्र गुप्ता ने श्री रामलला का दर्शन पूजन किया। तो वहीं प्रदेश में विधानसभा चुनाव को लेकर विपक्ष पर आरोप लगाया कि राम मंदिर के निर्माण में बाधा बनने वाले ही भगवान श्री राम का सहारा ढूंढ रहे है। और अब राजनीति यात्रा राम नगरी से शुरू कर रहे हैं।

इसे भी पढ़ें: महंत परमहंस दास ने किया कफन पूजन, 2 अक्टूबर को लेंगे जल समाधि

प्रदेश के नगर विकास राज्य मंत्री महेश चंद गुप्ता ने कहा कि भारत ही नहीं जब तक विश्व से कोरोना का सफाया नही होगा तब तक अन्न ग्रहण नही करूंगा। इसलिए 26 अप्रैल से यह प्रतिज्ञा चल रही है। तो वहीं कहा कि 2022 की रणनीति पर प्रदेश का बच्चा बच्चा बोल रहा है 2022 में फिर भाजपा की सरकार आएगी। और कहा कि आज हम अयोध्या में बैठे हैं। जो राष्ट्र की धरोहर राम मंदिर को बाबर के सेनापति मीर बाकी ने तोड़ा था। आज अयोध्या में भव्य राम मंदिर का निर्माण शुरू हो चुका है। विश्व का अनूठा होगा ये राम मंदिर होगा। जिसमें 20 हजार भक्त एक साथ आरती कर सकेंगे। 

इसे भी पढ़ें: अयोध्या में किसान मोर्चा का प्रदर्शन, सैकड़ों कार्यकर्ता गिरफ्तार

वहीं पीएम मोदी व सीएम योगी की तारीफ करते हुए कहा कि हम सब भाग्यशाली हैं कि प्रदेश में ऐसे मुख्यमंत्री व देश में मोदी जैसे प्रधानमंत्री मिले। आज विश्व में उत्तर प्रदेश प्रशंसा हो रही। विश्व में उत्तर प्रदेश की पहचान बन रही है।  आस्ट्रेलिया के सांसद भी सीएम योगी की प्रशंसा करते है। प्रधानमंत्री भी सीएम योगी की तारीफ करते हैं। महेश चंद्र गुप्ता ने कहा कि जो विपक्ष राम मंदिर के नाम पर कतराते थे। जिन्होंने राम मंदिर के लिए पत्थरों की आपूर्ति पर रोक लगाई थी। आज वही सब अपनी राजनीतिक यात्रा अयोध्या से शुरू कर रहे हैं।





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।