NEP के एक साल पूरे होने पर बोले PM मोदी, छोटे कस्बों से निकलने वाले युवा कर रहे कमाल

NEP के एक साल पूरे होने पर बोले PM मोदी, छोटे कस्बों से निकलने वाले युवा कर रहे कमाल

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि छोटे कस्बों से निकलने वाले युवा कमाल कर रहे हैं। इन्हीं दूर-दराज इलाकों और सामान्य परिवारों से आने वाले युवा टोक्यो ओलंपिक में देश का झंडा बुलंद कर रहे हैं।

नयी दिल्ली। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए राष्ट्रीय शिक्षा नीति 2020 के एक साल पूरे होने पर आयोजित कार्यक्रम में हिस्सा लिया। इस कार्यक्रम में केंद्रीय शिक्षा मंत्री धर्मेंद्र प्रधान भी मौजूद रहे। इस दौरान प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति के एक साल पूरे होने पर सभी देशवासियों और विद्यार्थियों को शुभकामनाएं दी। उन्होंने कहा कि बीते एक वर्ष में सभी महानुभावों, शिक्षकों, नीतिकारों ने इसे धरातल पर उतारने में बहुत मेहनत की है। 

इसे भी पढ़ें: पीएम किसान सम्मान निधि के लिए ऐसे कराएं रजिस्ट्रेशन, प्रत्येक वर्ष मिलेंगे 6000 रुपये 

उन्होंने कहा कि ये महत्वपूर्ण अवसर ऐसे समय में आया है, जब देश आजादी के 75 साल का अमृत महोत्सव मना रहा है। आज से कुछ दिन बाद 15 अगस्त को हम आजादी के 75वें साल में प्रवेश करने जा रहे हैं। ऐसे में नई राष्ट्रीय शिक्षा नीति का इंप्लीमेंटेशन आजादी के अमृत महोत्सव का प्रमुख हिस्सा बन गया है। इतने बड़े महापर्व के बीच राष्ट्रीय शिक्षा नीति के तहत शुरू हुई योजनाएं नए भारत के निर्माण में बहुत बड़ी भूमिकाएं निभाएंगी।

प्रधानमंत्री ने कहा कि हमारा युवा बदलाव के लिए पूरी तरह से तैयार है। वह इंतजार नहीं करना चाहता है। हम सबसे देखा है कि कोरोना काल में कैसे हमारी शिक्षा व्यवस्था के सामने इतनी बड़ी चुनौती आई। लेकिन छात्रों ने इस बदलाव को तेजी से स्वीकार किया और ऑनलाइन शिक्षा अब एक चलन बन गया है। शिक्षा मंत्रालय ने भी इसके लिए अनेक प्रयास किए हैं। मंत्रालय ने दिक्षा पोर्टल शुरू किया। स्वयं पोर्टल पर पाठ्यक्रम शुरू किए।

उन्होंने कहा कि दिक्षा पोर्टल में पिछले एक साल में 2,300 करोड़ से अधिक हिट्स हुए हैं। यह बताता है कि यह कितना प्रभावी रहा है। आज भी रोजाना करीब 5 करोड़ हिट मिलते हैं। 21वीं सदी का आज का युवा अपनी व्यवस्थाएं, अपनी दुनिया खुद अपने हिसाब से बनाना चाहता है। इसलिए उन्हें पुराने बंधनों से मुक्ति चाहिए। 

इसे भी पढ़ें: मोदी सरकार का बड़ा ऐलान, मेडिकल कॉलेजों में OBC और EWS आरक्षण को दी मंजूरी 

उन्होंने कहा कि छोटे कस्बों से निकलने वाले युवा कमाल कर रहे हैं। इन्हीं दूर-दराज इलाकों और सामान्य परिवारों से आने वाले युवा टोक्यो ओलंपिक में देश का झंडा बुलंद कर रहे हैं। भारत को नई पहचान दे रहे है। ऐसे ही करोड़ों युवा अलग-अलग क्षेत्रों में असाधारण काम कर रहे हैं। असाधारण काम की नीव रख रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि कोई आर्टिफिसियल इंटेलीजेंस के क्षेत्र में मानवीय क्षमताओं को नई ऊचाई दे रहा है तो कोई मशीन लर्निंग में नए माइल्डस्टोन की तैयारी कर रहा है। यानि हर क्षेत्र में भारत के युवा अपना परचम लहराने के लिए आगे बढ़ रहे हैं। उन्होंने कहा कि भारत का युवा हर क्षेत्र में अपनी पहचान बनाने के लिए आगे बढ़ रहा है। वे भारतीय स्टार्ट-अप पारिस्थितिकी तंत्र में भी क्रांति ला रहे हैं। वे उद्योग 4.0 के लिए भारत का नेतृत्व तैयार कर रहे हैं और डिजिटल इंडिया को नए पंख दे रहे हैं।

प्रधानमंत्री ने कहा कि नई शिक्षा नीति युवाओं को ये विश्वास दिलाती है कि देश अब पूरी तरह से उनके साथ है, उनके हौसलों के साथ है। जिस आर्टिफिसियल इंटेलीजेंस के प्रोग्राम को अभी लॉन्च किया गया है, वो भी हमारे युवाओं को future oriented बनाएगा, AI driven economy के रास्ते खोलेगा। 

इसे भी पढ़ें: नया मंत्रालय संभालते ही अनुराग ठाकुर ने व्यवस्थाओं को कर दिया दुरुस्त 

उन्होंने कहा कि राष्ट्रीय शिक्षा नीति को हर तरह के दबाव से मुक्त रखा गया है। जो खुलापन नीति के स्तर पर है, वही खुलापन छात्रों को मिल रहे विकल्पों में भी है। अब छात्र कितना पढ़ें, कितने समय तक पढ़ें, ये सिर्फ संस्थाएं तय नहीं करेंगी, इसमें छात्रों की भी सहभागिता होगी।

यहां सुने पूरा भाषण:- 





नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।