‘राष्ट्रीय बेरोजगारी रजिस्टर’ बनाने की मांग को लेकर युवा कांग्रेस ने शुरू किया अभियान

  •  प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क
  •  जनवरी 23, 2020   16:35
‘राष्ट्रीय बेरोजगारी रजिस्टर’ बनाने की मांग को लेकर युवा कांग्रेस ने शुरू किया अभियान

भारतीय युवा कांग्रेस के प्रभारी कृष्णा अल्लावरू ने इस अभियान की शुरुआत करते हुए आरोप लगाया कि बेरोजगारी और युवाओं की आत्महत्या से ध्यान भटकाने के लिए मोदी सरकार अनुच्छेद 370, सीएए और एनआरसी जैसे मुद्दों को उछाल रही है।

नयी दिल्ली। कांग्रेस की युवा इकाई ने बेरोजगारी के मुद्दे पर नरेंद्र मोदी सरकार को घेरने के मकसद से ‘राष्ट्रीय बेरोजगारी रजिस्टर’ (एनआरयू) बनाने की मांग करते हुए बृहस्पतिवार को एक अभियान की शुरुआत की और इसके तहत उसने मिस्ड कॉल के लिए एक नंबर भी जारी किया है। भारतीय युवा कांग्रेस के प्रभारी कृष्णा अल्लावरू ने इस अभियान की शुरुआत करते हुए आरोप लगाया कि बेरोजगारी और युवाओं की आत्महत्या से ध्यान भटकाने के लिए मोदी सरकार अनुच्छेद 370, सीएए और एनआरसी जैसे मुद्दों को उछाल रही है। उन्होंने संवाददाताओं से कहा, ‘‘देश में बेरोजगारी 45 वर्षों में सबसे ज्यादा है और मंदी का माहौल है। रोजाना 36 युवा आत्महत्या कर रहे हैं। इसके बाद प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेश में जाकर ‘सब चंगा सी’ बोलते हैं। जबकि हकीकत में सब चंगा नहीं, सब मंदा है।’’

अल्लावरू ने दावा किया, ‘‘देश की यह मंदी वैश्विक कारणों से नहीं आई है। यह मेड इन इंडिया मंदी है, मोदी सरकार द्वारा पैदा की गई मंदी है।’’ युवा कांग्रेस के अध्यक्ष श्रीनिवास बीवी ने कहा, ‘‘ मोदी सरकार ने हर साल दो करोड़ नौकरियां देने का वादा किया था, लेकिन उसके पास कोई आंकड़ा नहीं है। नौकरी बात करने पर प्रधानमंत्री पकौड़ा तलने की सलाह देते हैं।’’ उन्होंने कहा, ‘‘हमारी मांग है कि देश को एनआरसी की जरूरत नहीं, बल्कि एनआरयू की जरूरत है। सरकार को यह बताना चाहिए कि उसने छह वर्षों में कितने युवाओं को नौकरी दी और आगे कैसे बेरोजगारी दूर करेगी।’’

इसे भी पढ़ें: नागरिकता देने में राज्यों की भूमिका बमुश्किल, थरूर बोले- CAA के खिलाफ प्रस्ताव राजनीतिक कदम

श्रीनिवास ने यह आरोप भी लगाया कि एक क्रिकेटर के अंगूठे में चोट लगने पर प्रधानमंत्री ट्वीट करते हैं, लेकिन बेरोजगारी से परेशान युवाओं और आंदोलन कर रहे लोगों के बारे में उनका कोई ट्वीट नहीं आ रहा है। युवा कांग्रेस के प्रवक्ता अमरीश रंजन पांडे ने कहा, ‘‘मिस्ड कॉल के जरिए बेरोजगार युवा एनआरयू की मांग के प्रति अपना समर्थन देंगे और कुछ हफ्ते के बाद हमारे पास आए मिस्ड कॉल का आंकड़ा सरकार को देंगे और दबाव बनाएंगे कि वह एनआरयू तैयार करे।’’ पांडे ने कहा, ‘‘असल मुद्दों से लोगों का ध्यान का भटकाने की कोशिश हो रही है। युवा कांग्रेस लोगों का ध्यान असल मुद्दों की तरफ लाने की कोशिश में है।’’





Disclaimer:प्रभासाक्षी ने इस ख़बर को संपादित नहीं किया है। यह ख़बर पीटीआई-भाषा की फीड से प्रकाशित की गयी है।


नोट:कोरोना वायरस से भारत की लड़ाई में हम पूर्ण रूप से सहभागी हैं। इस कठिन समय में अपनी जिम्मेदारी का पूर्णतः पालन करते हुए हमारा हरसंभव प्रयास है कि तथ्यों पर आधारित खबरें ही प्रकाशित हों। हम स्व-अनुशासन में भी हैं और सरकार की ओर से जारी सभी नियमों का पालन भी हमारी पहली प्राथमिकता है।