Prabhasakshi
शनिवार, अक्तूबर 20 2018 | समय 22:08 Hrs(IST)

About us

द्वारिकेश इनफॉर्मेटिक्स लिमिटेड की ओर से 26 अक्तूबर, 2001 को नयी दिल्ली में हिन्दी समाचार पोर्टल प्रभासाक्षी.कॉम की शुरुआत की गयी। प्रधान संपादक श्री गौतम मोरारका के नेतृत्व में आज यह समाचार पोर्टल देश भर के पाठकों के बीच काफी लोकप्रिय है। खबरों को 'पढ़ने, देखने, सुनने और सोशल मीडिया मंचों पर शेयर करने का नया अनुभव प्राप्त कराता प्रभासाक्षी का नया 'लुक' तकनीकी लिहाज से अंतरराष्ट्रीय मानदंडों के अनुरूप है। प्रभासाक्षी.कॉम का डेस्कटॉप वर्जन मोबाइल फोन पर भी आसानी से और तीव्र गति से खुलता है, पाठक हालाँकि चाहें तो गूगल प्ले स्टोर और एप्पल स्टोर से प्रभासाक्षी का मोबाइल एप भी डाउनलोड कर सकते हैं। 

द्वारिकेश इनफॉर्मेटिक्स लिमिटेड का लक्ष्य तकनीक का लाभ आम जनता तक पहुँचाना है और इसके लिए आईटी और मीडिया के क्षेत्र में कंपनी की ओर से काफी कार्य किये गये हैं। आईटी के क्षेत्र में कंपनी ने डेटा विश्लेषण, वेब डेवलपमेंट, सॉफ्टवेयर निर्माण, डोमेन प्रबंधन, वेब डिजाइन, वेब आधारित सुरक्षा तंत्र आदि के निर्माण का कार्य भी किया है। 

मीडिया के क्षेत्र में कंपनी की ओर से कंटेंट गहन विश्लेषण के बाद तैयार किया जाता है और उसे तीव्र गति से पाठकों तक उनके लिए सर्वाधिक सुलभ फॉर्मेट में उपलब्ध कराया जाता है। कंपनी की ओर से ग्राफिक डिजाइनिंग, प्रचार, पब्लिक रिलेशन, विज्ञापन और प्रकाशन के क्षेत्र में भी सेवाएं प्रदान की जाती हैं। 

हमारी मुख्य कंपनी द्वारिकेश शुगर इंडस्ट्रीज लिमिटेड के अलावा अन्य ग्राहकों के लिए भी द्वारिकेश इनफॉर्मेटिक्स लिमिटेड वेबसाइट डिजाइन, रखरखाव, अपडेशन आदि का कार्य करती है।  

द्वारिकेश इनफॉर्मेटिक्स लिमिटेड की ओर से समय-समय पर जन जागरूकता के लिए विभिन्न कार्यक्रम भी चलाये जाते हैं। हमारे समाचार पोर्टल प्रभासाक्षी.कॉम की खबरें यूसी न्यूज और डेली हंट मोबाइल एप पर भी उपलब्ध हैं। देश भर से प्रभासाक्षी के साथ 100 से ज्यादा सक्रिय लेखक जुड़े हुए हैं जिससे कश्मीर से लेकर कन्याकुमारी तक की राजनीतिक, सामाजिक परिस्थितियों के विश्लेषण हमारे यहाँ प्रकाशित होते रहते हैं। 

इस समाचार पोर्टल पर प्रकाशित सामग्री रुचिकर और पठनीय होने के साथ-साथ उच्च गुणवत्ता से भरी होती है। जहाँ इंटरनेट पर सनसनीखेज और अशालीन सामग्री की भरमार है, वहीं प्रभासाक्षी ने साफ-सुथरी तथा निष्पक्षतापूर्ण सामग्री के माध्यम से अपनी अलग पहचान बनाई है। यह पाश्चात्य संस्कृति का अंधानुकरण नहीं कर रहा अपितु भारतीय संस्कृति और भारतीयता का संदेश प्रसारित करने में भी तल्लीनता के साथ जुड़ा हुआ है।  

देश के अनेक जाने-माने पत्रकार, लेखक, साहित्यकार, व्यंग्यचित्रकार आदि प्रभासाक्षी के साथ जुड़े रहे हैं। स्व. खुशवंत सिंह, स्व. अरुण नेहरू, स्व. दीनानाथ मिश्र प्रभासाक्षी पर नियमित कॉलम लिखते रहे। वर्तमान में श्री तरुण विजय, श्री राजनाथ सिंह सूर्य और श्री कुलदीप नायर जैसे प्रतिष्ठित स्तंभकार प्रभासाक्षी से जुड़े हुए हैं। तकनीकी दृष्टि से भी इस पोर्टल ने नए प्रतिमान कायम किए हैं, विशेषकर हिंदी भाषा में मौजूद प्रारंभिक सीमाओं तथा कठिनाइयों के बावजूद उसने गांव-कस्बों में रहने वाले नागरिकों के लिए उनकी अपनी भाषा में समाचार और विश्लेषण प्राप्त करना आसान बनाया है।

प्रभासाक्षी प्रोमो:


आप हमें Twitter पर भी फॉलो कर सकते है  (www.twitter.com/prabhasakshi)   

Facebook- https://www.facebook.com/prabhasakshi/