Prabhasakshi
सोमवार, जून 25 2018 | समय 22:43 Hrs(IST)

ब्यूटी/फैशन

बालों में होली का रंग लग गया है तो परेशान न हों, यह उपाय आजमाएँ

By वरूण क्वात्रा | Publish Date: Feb 28 2018 2:13PM

बालों में होली का रंग लग गया है तो परेशान न हों, यह उपाय आजमाएँ
Image Source: Google

रंगों के त्योहार में आपकी स्किन के बाद जिस चीज को सबसे ज्यादा नुकसान पहुंचता है, वह है आपके बाल। हानिकारक कलर्स न सिर्फ बालों की खूबसूरती को नुकसान पहुंचाते हैं, बल्कि इससे आपको स्कैल्प में खुजली के साथ−साथ जलन व बालों के टूटने व खराब होने की समस्या का भी सामना करना पड़ता है। इतना ही नहीं, अगर हानिकारक कलर्स आपके बालों में लग जाते हैं तो उन्हें निकालना काफी मुश्किल हो जाता है। कुछ कलर्स तो ऐसे होते हैं, जो आपके सिर में गहराई तक बैठ जाते हैं और आपके लिए परेशानी खड़ी कर देते हैं। अगर आपके बालों में भी कलर लग गया है तो आज हम आपको उसे निकालने के कुछ बेहद आसान तरीके बताते हैं−

सबसे पहले करें सुरक्षा
 
होली में आपके बालों पर कलर लग जाए और फिर आप उसे निकालने में मेहनत करें, इससे अच्छा है कि आप अपने बालों को पहले ही प्रोटेक्ट कर लें, ताकि हानिकारक कलर्स आपके बालों पर रूक ही न पाएं। इसके लिए आप होली से एक रात पहले अपने बालों को सबसे पहले वॉश करें। बालों को हर्बल शैंपू से धोने पर उसमें मौजूद किसी भी तरह की धूल−मिट्टी व गंदगी अच्छी तरह साफ हो जाएगी। इसके बाद बारी आती है ऑयलिंग की। इसके लिए आप नारियल, सरसों या ऑलिव ऑयल को हल्का गुनगुना करके उससे अपने बालों की अच्छे से मसाज करें। ऑयलिंग का फायदा आपको होली खेलने के बाद मिलेगा क्योंकि फिर एक ही वॉश में आपके सिर का सारा कलर निकल जाएगा। 
 
इसके अतिरिक्त बालों की सुरक्षा के लिए आप होली खेलते समय हमेशा अपने बाल बांधकर रखें। आप बालों को खुला रखने के स्थान पर ब्रेड या बन बना लें इससे भी बालों पर कलर बहुत अधिक नहीं जाएगा।
 
वहीं आप यह भी कोशिश करें कि होली खेलने के दौरान आप बालों को स्कार्फ, कैप या टोपी की सहायता से पूरी तरह कवर कर दें। इससे कलर्स का स्कैल्प में जाने का खतरा काफी हद तक कम हो जाता है। वहीं अगर संभव हो तो कैप या स्कार्फ के नीचे शावर कैप भी पहनें।
 
जब लग जाए रंग
 
अगर आपने होली पर अपने बालों का करीने से ध्यान रखा लेकिन फिर भी मस्ती के बीच आपको कलर लग गया है तो परेशान होने की बिल्कुल भी आवश्यकता नहीं है। सबसे पहले तो आप यह देखें कि आपके बालों में सूखा कलर है या गीला। अगर आपके बाल गीले नहीं हैं तो उन्हें बिल्कुल भी गीला न करें। इससे कलर और भी अधिक फैल जाएगा।
 
सूखे बालों से कलर हटाने के लिए आप बालों को अच्छी तरह ब्रश कर लें। ब्रश करने से ही आपके सिर से काफी रंग आसानी से हट जाएगा।
 
वहीं आपके बाल गीले हैं और कलर भी फैल गया है तो बालों में शैम्पू करने से पहले एक बार सादे पानी से बालों को अच्छी तरह धो डालिए। इससे बालों में से काफी कलर निकल जाएगा। उसके बाद शैम्पू करने से आपको ज्यादा फायदा होगा। 
 
बालों में से कलर निकालने के लिए आप दही का इस्तेमाल भी कर सकते हैं। इसके लिए आप अपने बालों में अच्छे से दही लगाएं और फिर उसे करीबन आधा से एक घंटा छोड़ दीजिए। इसके बाद साफ पानी से बालों को धोकर शैंपू करें। इससे सारा कलर तो निकलेगा ही, साथ ही आपके बाल भी नरम और शाइनी बनेंगे। आप चाहें तो दही में कुछ बूंदें नींबू के रस की भी मिला सकते हैं। 
 
बालों में से होली का रंग निकालने के लिए एग यॉक भी काफी फायदेमंद साबित हो सकता है। इसके लिए आप अंडे की जर्दी को करीबन आधा घंटे के लिए अपनी स्कैल्प पर लगाएं और फिर बालों को वॉश कर लें। यह हानिकारक कलर निकालने के साथ−साथ आपके बालों व स्कैल्प को पोषित भी करेगा। 
 
जो लोग अंडे की जर्दी का इस्तेमाल नहीं करना चाहते, वे दही में मेथी पाउडर मिक्स करके उसे अपने बालों पर अप्लाई करें। सिर में से हानिकारक कलर्स निकालने का यह भी एक बेहतरीन आईडिया है।
 
इसका रखें ध्यान 
 
कुछ लोग बालों में से कलर निकालने के लिए उसे बहुत जोर−जोर से रगड़ने लगते हैं लेकिन आप ऐसा मत कीजिए। इससे बालों की जड़ें कमजोर होती हैं और हेयर फॉल की समस्या होती है। इतना ही नहीं, बार−बार शैंपू करना या फिर जोर लगाकर बालों को धोने से बाल खराब भी हो जाते हैं। 
 
होली पर बालों में से कलर्स निकालते समय आपको इस बात का भी ध्यान रखना चाहिए कि आप बाल धोने के लिए अत्यधिक गर्म पानी का इस्तेमाल न करें। इससे बालों के खराब होने की संभावना काफी हद तक बढ़ जाती है। साथ ही होली में बाल धोने के बाद उसे ब्लो−ड्राई करने की गलती भी न करें।
 
आप बालों को धोने के बाद कंडीशनर या सिरके के पानी का इस्तेमाल अवश्य करें। यह आपके बालों को सॉफ्ट व मैनेजेबल बनाने में मदद करेंगे।
 
-वरूण क्वात्रा

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

शेयर करें: