Prabhasakshi
मंगलवार, अप्रैल 24 2018 | समय 00:49 Hrs(IST)

कॅरियर

जीवविज्ञानी बनना चाहते हैं? पढ़िये सुरभि देवरा की सलाह

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Jul 23 2016 12:20PM

जीवविज्ञानी बनना चाहते हैं? पढ़िये सुरभि देवरा की सलाह
Image Source: Google

प्रभासाक्षी के युवा चैनल पर कॅरियर संबंधी पाठकों के प्रश्नों का उत्तर दे रही हैं कॅरियरगाइड की संस्थापक और संचालक सुरभि देवरा। कॅरियर गाइड देश में युवाओं की सही कॅरियर का चयन करने में मदद करता है। सुरभि, बिट्स पिलानी से इंजीनियरिंग में स्नातक हैं। वह प्रसिद्ध कॅरियर काउंसलर हैं और पिछले आठ वर्षों से छात्रों का मार्गदर्शन करने का अनुभव रखती हैं। सुरभि भारत सरकार के कॅरियर केंद्र के लिए सलाहकार की भूमिका भी निभा चुकी हैं। सुरभि ने अनेकों कॅरियर सम्मेलनों को संबोधित किया है तथा मीडिया में भी उनकी सलाहों को सदैव उचित स्थान मिलता रहा है।

 
प्रश्न- रचनात्मकता एक बावर्ची की भूमिका के लिए कैसे महत्वपूर्ण है?
 
उत्तर- इस प्रतियोगी दुनिया में रचनात्मकता आजकल हर किसी के लिए और हर पेशे में बहुत महत्वपूर्ण है। रचनात्मकता के जरिये ही आप किसी पकवान को बहुत आकर्षक, पौष्टिक और स्वादिष्ट बना सकते हैं। रचनात्मकता एक महाराज के पेशे में होनी जरूरी है। यह ग्राहकों के दिलों को जीतने के लिए और रेस्तरां की प्रतिष्ठा को बनाए रखने और इसे दूसरों से अलग बनाने के लिए जरूरी है।
 
प्रश्न- मैंने 10वीं बोर्ड परीक्षा दी है और मैं एक समुद्री जीवविज्ञानी बनना चाहता हूँ। मैं यह कैसे करूँ?
 
उत्तर- 1. समुद्री जीवविज्ञानी बनने के लिए विज्ञान स्नातक होना जरूरी है। हालांकि, सबसे पसंदीदा समुद्री जीव विज्ञान में परास्नातक की डिग्री है। अनुसंधान और विश्वविद्यालय शिक्षण पदों के लिए,
समुद्री जीव विज्ञान में पीएचडी की आवश्यकता है। 10वीं के बाद, आपको 11वीं में पी.सी.बी. या  पी.सी.एम.बी. विषयों को लेने की जरूरत है। 12वीं के बाद, आप समुद्री जीव विज्ञान में बी.एस.सी. कर सकते हैं और फिर समुद्री जीव विज्ञान में एम.एस.सी. करने की सलाह दी जाती है।
 
2. एक क्षेत्र के रूप में समुद्री जीव विज्ञान के बारे में महत्वपूर्ण जानकारी इस प्रकार है-
समुद्री जीव विज्ञान पौधों, जानवरों और सूक्ष्म जीवों जो सागर/महासागर में रहते हैं, के जीवन का अध्ययन है। समुद्री जीव विज्ञान एक व्यापक क्षेत्र है, इसकी विशेषज्ञताओं में शामिल हैं: समुद्री जैव प्रौद्योगिकी, कीटाणु-विज्ञान, मत्स्य पालन और एक्वाकल्चर, पर्यावरण समुद्री जीव विज्ञान, गहरे समुद्र में पारिस्थितिकी, समुद्री स्तनपायी-संबंधी विद्या, समुद्री आचारविज्ञान। विशेषज्ञताएँ एक विशेष प्रजाति के जीव, व्यवहार, तकनीक या पारिस्थितिकी तंत्र पर आधारित हैं। सामान्य में, समुद्री जीव को इकट्ठा करने और जैविक डेटा अध्ययन, पौधे के जीवन का विश्लेषण, पशु प्रजातियों और उनके व्यवहार की पहचान करनी होती है और शोध पत्र लिखने होते हैं। इसके अलावा, समुद्री जीव एक शोधकर्ता, प्रबंधक, या प्रोफेसर के रूप में काम करते हैं।
 
भावी संभावनाएं: समुद्री जीव कॉरपोरेट सेक्टर में काम करने, अनुसंधान संस्थानों, संग्रहालय/चिड़ियाघर, समुद्री मछलीघर, पर्यावरणीय प्रयोगशालाओं, संरक्षण एजेंसियों, सरकारी विभागों, पारिस्थितिकी पर्यटन क्षेत्र और शिक्षाविद।
 
प्रश्न- मैं पूछना चाहता हूँ कि एमबीबीएस के अलावा अन्य बेहतर क्षेत्र जैसे बीएचएमएस कैसा है?
 
उत्तर- एमबीबीएस के अलावा, यदि आप चिकित्सा के क्षेत्र में रुचि रखते हैं तो आप या तो बीएचएमएस या बीएएमएस या बीयूएमएस या पशु चिकित्सा विज्ञान चुन सकते हैं। बीएचएमएस एक अच्छा दवा क्षेत्र है और आज कई लोग एलोपैथी की बजाय होम्योपैथी के पक्ष में हैं। कुछ और दवा या जैविक विज्ञान से संबंधित विकल्प की सूची इस प्रकार है-
 
दंत चिकित्सक
त्वचा विशेषज्ञ
आहार विशेषज्ञ
पोषण विशेषज्ञ
ईएनटी विशेषज्ञ
फूड टेक्नोलॉजिस्ट
फार्मेसी
चिकित्सा- एलोपैथी, आयुर्वेद, होम्योपैथी, पशु चिकित्सा
बॉटनी
जीवविज्ञानी
जैव प्रौद्योगिकी
माइक्रोबायोलॉजी/बागवानी
वानिकी
पैरा मेडिकल- नर्सिंग, फिजियोथेरेपी, लैब तकनीशियन
कृषि/मत्स्य

Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.