Prabhasakshi
रविवार, अगस्त 19 2018 | समय 11:12 Hrs(IST)

संयुक्त राष्ट्र के पूर्व महासचिव कोफी अन्नान का 80 वर्ष की उम्र में निधन

समसामयिक

कश्मीर में मुठभेड़ों के दौर में जान ही नहीं लोगों के घर भी संकट में

By सुरेश एस डुग्गर | Publish Date: Sep 6 2017 2:58PM

कश्मीर में मुठभेड़ों के दौर में जान ही नहीं लोगों के घर भी संकट में
Image Source: Google

आप हैरान होंगे कि अब कश्मीरी अपने मकान को बचाने की खातिर दुआ क्यों करने लगे हैं। तो यह उनकी मजबूरी है। मजबूरी कह लीजिए या फिर बदकिस्मती कि कश्मीर को खंडहर बनाने में सुरक्षा बल तथा आतंकी अब अपनी अपनी अहम भूमिका निभाने लगे हैं। यही कारण था कि सोपोर के शंकरगुंड में आज सुबह जब अब्दुल रशीद ने जैसे ही गोलियों की आवाज सुनी और जैसे ही उसके कानों में यह शब्द पड़े कि सेना ने उसके इलाके में आतंकियों को घेर लिया है तो उसके हाथ दुआ के लिए उठ गए। यह दुआ अपनी जान को बचाने की खातिर नहीं थी बल्कि अपने मकान को बचाने की खातिर थी।

अगर एक पक्ष (आतंकी) फिदायीन हमले के उपरांत किसी इमारत में घुस जाते हैं तो दूसरा पक्ष (सुरक्षा बल) उस इमारत पर हुए आतंकी कब्जे को खत्म करवाने के इरादों से उसे सिर्फ ढहाने पर ही विचार करता है। नतीजा कश्मीर खंडहर में बदलता जा रहा है।
 
‘यह सुरक्षा बलों की नई नीति है,’ अब्दुल रशीद कहता है। वह खुदा का शुक्रिया अदा करता है कि शंकरगुंड में सेना ने जिन आतंकियों के खिलाफ हमला बोला था वे उसके मकान में नहीं घुसे थे बल्कि वे उसके मकान से थोड़ी दूर स्थित उसके रिश्तेदार की इमारत में जा घुसे थे जो अब खंडहर में इसलिए बदल चुकी है क्योंकि आतंकियों को नेस्तनाबूद करने की खातिर सुरक्षा बलों की ओर से मोर्टार तथा राकेटों की अनगिनत बौछार उस पर की जा चुकी है।
 
पहले यह नीति कभी भी सुरक्षा बलों की ओर से नहीं अपनाई गई थी। मगर जबसे आतंकी फिदायीन हमला बोल, सुरक्षा बलों को और क्षति पहुंचाने के इरादों से इमारतों पर कब्जा करने लगे हैं तो सुरक्षाधिकारियों को यह कड़ा फैसला लेना ही पड़ रहा है। 
 
परिणामस्वरूप अब इस नीति का जोर शोर से इस्तेमाल हो रहा है कि आतंकी कब्जा समाप्त करने के लिए इमारत को ही उड़ा दो। यह इमारत चाहे आम कश्मीरी नागरिकों की हो, सरकारी हो या फिर सुरक्षा बलों की। कई फिदायीन हमलों के दौरान सुरक्षा बलों को अपनी ही आवासीय कालोनियों के मकानों को तो, कई बार अपने शिविरों के भीतर स्थित अपनी इमारतों को भी ढहाना पड़ा है।
 
पिछले 10 सालों में कितनी इमारतों को इस प्रकार की नीति अपनाते हुए ढहाया जा चुका है कोई आंकड़ा ही नहीं है। यह संख्या अब सैंकड़ों में पहुंच चुकी है क्योंकि आए दिन एक दो फिदायीन हमले कश्मीर में अब आम हो चुके हैं। यही कारण है कि अगर किसी क्षेत्र में आतंकियों की ओर से फिदायीन हमला किया जाता है तो उस क्षेत्र की जनता सबसे पहले जान बचाने के लिए नहीं बल्कि अपना मकान बचाने की खातिर दुआ करने में जुट जाती है। ऐसा करना इसलिए भी उनकी मजबूरी बन चुका है क्योंकि अगर मकान तहस नहस हो गया तो सिर छुपाने की जगह कहां मिलेगी। यह कड़वी सच्चाई है कि ऐसे कई परिवार अभी भी सड़कों पर खुले आसमान के नीचे हैं जिनके घर ऐसी ही कार्रवाईयों के शिकार हो चुके हैं।
 
हालांकि सुरक्षाधिकारी इन परिस्थितियों के लिए आतंकियों को ही दोषी ठहराते हुए कहते हैं कि अगर वे इन मकानों में शरण न लें तो ये मकान बच सकते हैं। एक सुरक्षाधिकारी के बकौलः ‘आतंकियों द्वारा जिस मकान में शरण ली जाती है उसे बचाने की हमारी हरसंभव कोशिश होती है। लेकिन अंत में हमें उस पर मोर्टार से हमला इसलिए करना पड़ता है ताकि आतंकी किसी और को क्षति न पहुंचाएं तथा उनका खात्मा हो सके। यह बात अलग है कि आतंकियों पर इन बातों का कोई प्रभाव नहीं है और आम नागरिक हैं कि बस अपने मकानों को खंडहरों में तब्दील होते हुए बेबसी से देखने के सिवाय कुछ नहीं कर पाते।
 
- सुरेश एस डुग्गर

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

शेयर करें: