Prabhasakshi
सोमवार, जून 25 2018 | समय 22:39 Hrs(IST)

समसामयिक

कश्मीर में भटके युवाओं की 'घर वापसी' के लिए भी प्रयासरत हैं सुरक्षा बल

By सुरेश एस डुग्गर | Publish Date: Mar 12 2018 11:37AM

कश्मीर में भटके युवाओं की 'घर वापसी' के लिए भी प्रयासरत हैं सुरक्षा बल
Image Source: Google

जम्मू कश्मीर पुलिस का दावा है कि अब तक करीब 18 भटके हुए युवक घर वापसी कर चुके हैं। पुलिस के डीजीपी एसपी वेद्य ने कहा कि नवंबर में फुटबॉलर मजीद खान की घर वापसी के बाद परिवारों की अपील युवक सुन रहे हैं और आतंक की राह छोड़कर वापिस आ रहे हैं। उन्होंने बताया कि मार्च में ही दो युवक घर वापसी कर चुके हैं।

डीजीपी ने कहा कि हर घर वापसी अहम है। उन्होंने कहा कि इससे परिवार तबाह होने से बच रहे हैं। आतंकियों को घर वापिस लाने में पुलिस भी अहम भूमिका निभा रही है। आतंकियों के परिवारों से अधिकारी बात कर रहे हैं और उन्हें मना रहे हैं कि वे अपने बच्चों को वापिस बुलाने के लिए अपील करें। उन्होंने बताया कि जब युवक को लगता है कि उसे वापिस आना चाहिए तो वे अपने परिवार से बात करता है और हम भी उसकी पूरी मदद करते हैं। उन्होंने कहा कि युवक अपनी मर्जी से आतंकी बन रहे हैं या फिर आतंकवाद छोड़ रहे हैं और इसका अर्थ यह है कि उन पर किसी तरह का कोई दबाव नहीं है।
 
राज्य पुलिस महानिदेशक डॉ. एसपी वैद्य ने हाल ही में एक ट्वीट के जरिये कश्मीर में एक और स्थानीय आतंकी के मुख्यधारा में लौटने की पुष्टि की थी। उन्होंने इस युवक के नाम की पुष्टि नहीं की है। राज्य पुलिस के एक अन्य अधिकारी ने बताया कि नवंबर से अब तक 18 युवक आतंक का रास्ता छोड़ मुख्यधारा में लौट आए हैं।
 
इन युवकों को वापस लाने में उनके परिजनों के साथ पुलिस व अन्य सुरक्षा एजेंसियों ने मिलकर प्रयास किए हैं। मुख्यधारा में लौटने वाले युवक को फिलहाल काउंसलिंग प्रदान की जा रही है। जल्द ही वह सामान्य जनजीवन में शामिल हो जाएगा। 
 
गौरतलब है कि फुटबॉलर से आतंकी बने माजिद खान के वापसी करने के बाद अब तक करीब 18 के करीब आतंकियों ने आतंक के रास्ते को अलविदा कहा है। डीजीपी एसपी वैद्य की ओर से कई दफा इस बात को कहा गया है कि हम आतंकियों को मारने से ज्यादा उनके मुख्यधारा में वापसी कराने पर जोर दे रहे हैं।
 
यह सब सभी की पुकार के कारण हुआ है। फिलहाल पुकार, गुहार और दुआ के क्रम में सबसे बड़ा खतरा आतंकी गुटों की ओर से भी है जो अब बार-बार ऐलान करने लगे हैं कि अब किसी भी आतंकी युवा को घर लौटने की इजाजत नहीं दी जाएगी। उनका कहना था कि सभी युवा अपनी मर्जी से संगठनों में शामिल हुए हैं और उनकी मांओं ने उन्हें आप कश्मीर की आजादी के आंदोलन में शिरकत की इजाजत दी है।
 
यह सच है कि कश्मीर में कई माएं अपने बेटों को पुकार रही हैं। उनके बेटे हथियार थाम आतंकवाद की राह पर कदम बढ़ा चुके हैं। दर्जनभर मांओं की पुकार रंग ला चुकी है। उनके बच्चे वापस लौट चुके हैं। करीब 18 युवाओं की घर वापसी ने अन्य को आस बंधा दी है। यही कारण था कि कश्मीर में अपने खोए तथा आतंकवाद की राह पर जा चुके बेटों और पतिओं की घर वापसी के लिए गुहार लगाने और पुकारने का सिलसिला तेज हो चुका है। व्हाट्सएप ग्रुपों पर ऐसी मांओं की पुकार के वीडियो का अंबार लगने लगा है। सबको उम्मीद है उनके बच्चे घर वापस लौटेंगे।
 
-सुरेश एस डुग्गर

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

शेयर करें: