Prabhasakshi
मंगलवार, अक्तूबर 23 2018 | समय 16:51 Hrs(IST)

समसामयिक

उत्तराखंड में मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट के खिलाफ उठ रही है आवाज

By निशीथ सकलानी | Publish Date: Nov 30 2017 11:25AM

उत्तराखंड में मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट के खिलाफ उठ रही है आवाज
Image Source: Google

केदारनाथ में पुनर्निर्माण कार्य के तहत पीएम के ड्रीम प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए पुनर्निर्माण की प्रक्रिया को प्रारम्भ किया जा चुका है। इसके लिए वहां केदारनाथ विकास प्राधिकरण की स्थापना की जा रही है। जबकि तीर्थ पुरोहित केदारनाथ विकास प्राधिकरण के गठन की सरकारी पहल को अनुचित बता रहे हैं। इसके अलावा केदारनाथ को रोप−वे से जोड़ने की सरकारी योजना से कांडी, पालकी और खच्चर वाले भी खासे परेशान दिखाई दे रहे हैं। इस मामले को लेकर वह भी सरकार खिलाफ लामबंद होने लगे हैं। बड़ा सवाल यह है कि ऐसी स्थिति में प्रधानमंत्री का यह ड्रीम प्रोजेक्ट किस प्रकार से परवान चढ़ पायेगा।

उत्तराखंड स्थित प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट केदारनाथ पुनर्निर्माण के कार्यों की रफ्तार तेज करने के लिए केदारनाथ में जल्द ही केदारनाथ विकास प्राधिकरण (केडीए) का कार्यालय खोले जाने पर विचार के साथ−साथ योजनाओं का सर्वेक्षण किया जा रहा है। संभवतः इसी माह से निर्माण कार्य भी शुरू कर दिए जाएंगे। हालांकि तीर्थ पुरोहित सरकार के इस निर्णय का विरोध कर रहे हैं। लेकिन सरकार फिलहाल पीछे हटती नजर नहीं आती। पिछले माह 20 अक्टूबर को प्रधानमंत्री ने केदारनाथ में पांच योजनाओं का शिलान्यास किया था। इसके तहत आदि गुरु शंकराचार्य की समाधिस्थल का पुनर्निर्माण और संग्रहालय, गौरीकुंड से केदारनाथ पैदल मार्ग का चौड़ीकरण, मंदाकिनी के तट पर बाढ़ सुरक्षा एवं घाट निर्माण, सरस्वती नदी के तट पर बाढ़ सुरक्षा एवं घाट निर्माण और केदारनाथ में तीर्थ पुरोहितों के लिए आवास का निर्माण किया जाना है।
 
इतना ही नहीं इन तमाम निर्माण कार्यों पर प्रधानमंत्री स्वयं नजर रख रहे हैं। इसलिए प्रदेश सरकार इस मामले में किसी तरह की ढील नहीं छोड़ना चाहती। निगरानी के लिए ड्रोन की खरीद के साथ ही गौरीकुंड से केदारनाथ के बीच प्रमुख पड़ावों पर सीसीटीवी कैमरे लगाने का कार्य शुरू हो चुका है। इसी कड़ी में केदारनाथ में केदारनाथ विकास प्राधिकरण का कार्यालय खोला जा रहा है। फिलहाल गढ़वाल मंडल विकास निगम के अतिथि गृह के एक कमरे में कार्यालय संचालित होगा। सरकार के हवाले से मलूम हुआ है कि संबंधित विभाग योजना की डिटेल प्रोजेक्ट रिपोर्ट तैयार कर रहे हैं। और उम्मीद जताई जा रही है कि शीघ्र ही केदारनाथ में नए निर्माण शुरू कर दिए जाएंगे।
 
दूसरी ओर तीर्थ पुरोहित केदारनाथ विकास प्राधिकरण के गठन का विरोध कर रहे हैं। केदार सभा के अध्यक्ष विनोद शुक्ला ने का कहना है कि तीर्थ पुरोहितों की मांग है कि जब तक केदारनाथ आपदा से पहले जैसी स्थिति में नहीं आ जाता तब तक केडीए का गठन न किया जाए। उन्होंने कहा कि सरकार तीर्थ पुरोहितों की भावनाओं के खिलाफ कार्य कर रही। है। तीर्थ पुरोहित समाज प्रधानमंत्री से लेकर राष्ट्रपति तक अपना विरोध भी जता चुका है, इसके बावजूद यदि सरकार केडीए की स्थापना करती है तो यह दुर्भाग्यपूर्ण है। तीर्थ पुरोहित समाज अपना विरोध जारी रखेगा।
 
फिलहाल हर तरह के विरोध को नजर अंदाज करते हुए राज्य सरकार ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के ड्रीम प्रोजेक्ट मिशन केदारनाथ पर काम शुरू कर दिया है। सरकार ने केदारनाथ पुनर्निर्माण योजनाओं पर तेजी से कार्य करने के साथ ही प्रमुख पड़ाव गौरीकुंड से केदारनाथ के बीच रोपवे निर्माण के लिए सर्वे कार्य भी पूरा कर लिया है। बताया जाता है कि इस रोपवे के निर्माण के बाद केदारनाथ और गौरीकुंड के बीच की दूरी घटकर नौ किलोमीटर रह जाएगी। इससे यात्रा न केवल सुगम हो जाएगी, बल्कि यात्रा के खर्चे में भी कमी आएगी। पैदल यात्रा में आमतौर पर छह से सात घंटे लगते हैं, जबकि रोपवे से यह दूरी मात्र तीस मिनट में तय की जा सकेगी।
 
समुद्रतल से 11300 फीट की ऊंचाई पर स्थित केदारनाथ धाम तक पहुंचना वर्तमान में किसी चुनौती से कम नहीं है। यात्रा के प्रमुख पड़ाव गौरीकुंड से केदारनाथ की दूरी 16 किलोमीटर है। पैदल मार्ग से कठिन चढ़ाई के बाद ही बाबा केदार के दर्शन हो पाते हैं। हालांकि केदारनाथ के लिए हेली सेवाओं की सुविधा है, लेकिन आम यात्री के लिए ये काफी महंगी साबित होती हैं। इसके तहत प्रति यात्री करीब आठ हजार रुपये किराया रखा गया है।
 
वहीं, घोड़े से जाने पर किराया दो हजार और पालकी से पांच हजार रुपये पड़ता है। ऐसे में लंबे समय से केदारनाथ को रोपवे से जोड़ने की कवायद की जा रही थी, लेकिन यह परवान नहीं चढ़ पाई। पूर्व में सरकार रोपवे का निर्माण पीपीपी मोड में करना चाहती थी, मगर कंपनियों ने रुचि नहीं दिखाई। इस पर सरकार ने स्वयं ही यह जिम्मेदारी उठाने का निर्णय लिया। अब रोपवे निर्माण उत्तराखंड सरकार का उपक्रम ब्रिज रोपवे, टनल एंड अदर इंफ्रास्ट्रक्चर डेवलेपमेंट कारपोरेशन को सौंपा गया है। रुद्रप्रयाग के जिलाधिकारी मंगेश घिल्डियाल ने बताया कि ढाई अरब रुपये की इस परियोजना का सर्वेक्षण कार्य पूरा कर लिया गया है। इसकी रिपोर्ट शासन को भेजी जा रही है। शासन से रिपोर्ट केंद्र को भेजी जाएगी और मंजूरी मिलते ही कार्य शुरू कर दिया जाएगा।
 
केदारनाथ विकास प्राधिकरण बनाकर एक ओर जहां राज्य सरकार ने प्रधानमंत्री के ड्रीम प्रोजेक्ट को पूरा करने के लिए तीर्थ पुरोहितों की नाराजगी मोल ली है वहीं दूसरी ओर गौरीकुंड से केदारनाथ के बीच रोपवे निर्माण को हरी झंडी देकर खच्चर, पालकी और कांडी वालों को भी अपने खिलाफ खड़ा कर दिया है। खच्चर एसोसिएशन, कांडी एवं पालकी वालों के बीच इन दिनों सरकार के इस निर्णय के विरुद्ध आवाज मुखर होती सुनाई दे रही है। अब देखना यह है कि रोपवे निर्माण के पश्चात इस मार्ग पर यात्रियों की यात्रा को सुगम बनाने का दावा करने वाली उत्तराखंड सरकार वर्षों से खच्चर, पालकी और कांडी से यात्रियों को केदारनाथ पहुंचाने वाले स्थानीय व्यवसायियों के लिए कौन सा रास्ता निकालती है जिससे उनका रोजगार प्रभावित न हो।
 
- निशीथ सकलानी
 
(लेखक देहरादून से प्रकाशित 'अनंत आवाज' मासिक पत्रिका के सम्पादक हैं और अनेक राष्ट्रीय व क्षेत्रीय समाचार पत्रों के स्तम्भ लेखक रहे हैं)

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

शेयर करें: