Prabhasakshi
शनिवार, जून 23 2018 | समय 00:31 Hrs(IST)

यंग इंडिया

अगर नौकरी पानी है तो रिज्यूम में नहीं करें यह गलतियाँ

By वरूण क्वात्रा | Publish Date: Oct 25 2017 2:34PM

अगर नौकरी पानी है तो रिज्यूम में नहीं करें यह गलतियाँ
Image Source: Google

आपका रिज्यूम आपके व्यक्तित्व व कॅरियर का एक दर्पण होता है। जब भी आप कहीं जॉब के लिए अप्लाई करते हैं तो सबसे पहले आपके रिज्यूम की ही डिमांड होती है तथा आपका रिज्यूम देखकर ही कंपनी आपकी दक्षताओं, अनुभवों व आपके व्यक्तित्व के बारे में अंदाजा लगाती है। इतना ही नहीं, आपके कॅरियर को नए आयाम देने में आपके रिज्यूम का एक बहुत बड़ा रोल हेाता है। अगर आपका रिज्यूम प्रभावशाली नहीं होता तो आप एक बेहतरीन जॉब से भी हाथ धो बैठते हैं। आपके रिज्यूम की गलतियां आपके कॅरियर को ऊंचाइयों पर ले जाने की जगह गर्त की ओर ले जाता है। तो आईए जानते हैं रिज्यूम लिखने के प्रभावशाली तरीकों के बारे में−

न हो गलतियां
जब भी आप अपना रिज्यूम तैयार करते हैं तो इस बात का खास ख्याल रखें कि आपसे छोटी−छोटी गलतियां न हों। मसलन, आप व्याकरण व शब्दों के चयन पर भी खास ध्यान दें। साथ ही रिज्यूम में टाइपो का प्रयोग भी आपके व्यक्तित्व पर नकारात्मक असर डालता है। उदाहरण के तौर पर अगर आप लिखते हैं कि आई एम ग्रेजुएट फ्रॉम या आई एम कॅरियर ओरिएंटिड पर्सन। रिज्यूम में कभी भी आई, मी और माई जैसे शब्दों के इस्तेमाल से बचें। इस तरह के वाक्य लिखने से कोई भी आपका रिज्यूम दूसरी बार नहीं देखता। भले ही आप कितने भी काबिल हों।
 
न करें बढ़ा−चढ़ाकर पेश
आमतौर पर लोग अपने रिज्यूम में अपने बारे में काफी हद बढ़ा−चढ़ाकर लिखते हैं या फिर कभी−कभी झूठ भी पेश करते हैं। जितना हो सके, ऐसा करने से बचें। याद रखें कि आप जो भी अपने रिज्यूम में लिखते हैं, उसे कंपनी का एचआर अपने लेवल पर क्रॉसचेक करा लेता है। इतना ही नहीं, वह आपके बारे में काफी हद तक जानकारी सोशल मीडिया व आपके पुराने ऑफिस से प्राप्त कर लेता है। इसलिए अपनी काबिलियत को ध्यान में रखते हुए ही अपना रिज्यूम तैयार करें।
 
सिंपल हो फॉर्मेट
अक्सर ऐसा देखने में आता है कि लोग अपने रिज्यूम को आकर्षक दिखाने के लिए फैंसी, कलरफुल व कई तरह के फान्ट्स का इस्तेमाल करते हैं। इससे आपके रिज्यूम में प्रोफेशनलिज्म नहीं झलकता। रिज्यूम तैयार करते समय आप उसका फॉर्मेट सिंपल रखें। कोशिश करें कि वह आसानी से पठनीय व देखने में अपीलिंग हो। रिज्यूम को ब्यूटिफाई करने से वह सिर्फ और सिर्फ देखने वालों का सिरदर्द ही करता है।
 
न करें कॉपी
रिज्यूम बनाना देखने में जितना आसान लगता है, वास्तव में उसे बनाना उतना ही कठिन है। आमतौर पर लोग इस सिरदर्द से बचने के लिए किसी दूसरे का रिज्यूम कॉपी करके उसमें अपने बारे में लिख देते हैं। ऐसा करना सही नहीं है। याद रखें कि रिज्यूम वास्तव में व्यक्तिगत होता है और यह जीवन में आपकी कामयाबी के बारे में दर्शाता है। इसलिए आप किसी अन्य व्यक्ति की प्रतिलिपि का इस्तेमाल करके उसमें केवल कुछ शब्दों का बदलाव न करें। भले ही आपका रिज्यूम एक पेज का हो, लेकिन उसे ऑरिजिनल ही रहने दें। 
 
बनाएं पीडीएफ
आमतौर पर लोग अपना रिज्यूम एमएसवर्ड या डॉक्यूमेंट में बनाते हैं। वैसे ऐसा करना गलत नहीं है, लेकिन अपनी व हायरिंग मैनेजर की सुविधा के लिए आप इसे पीडीएफ में तैयार करें। इसका फायदा यह होता है कि यह एक इमेज का रूप ले लेता है और किसी भी कंप्यूटर में यह उसी रूप में खुलता है, जिस प्रकार आपने इसे तैयार किया है। अगर आप किसी अन्य फार्मेट में इसे तैयार करते हैं तो अन्य कंप्यूटर में इसकी स्टाइलिंग, फॉन्ट व फार्मेट में बदलाव होने की संभावना रहती है।
 
वरूण क्वात्रा

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

शेयर करें: