Prabhasakshi
मंगलवार, अप्रैल 24 2018 | समय 00:38 Hrs(IST)

विशेषज्ञ राय

कौन-कौन से IPO आने वाले हैं, यह जानने के लिए यहाँ आएँ

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Nov 27 2017 2:27PM

कौन-कौन से IPO आने वाले हैं, यह जानने के लिए यहाँ आएँ
Image Source: Google

पाठकों के प्रश्नों का उत्तर दे रहे हैं द्वारिकेश शुगर इंडस्ट्रीज लिमिटेड के पूर्णकालिक निदेशक व कंपनी सचिव श्री बी.जे. माहेश्वरी जी। श्री माहेश्वरी पिछले 33 वर्षों से कंपनी कानून मामलों, कर (प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष) आदि मामलों को देखते रहे हैं। यदि आपके मन में भी आर्थिक विषयों से जुड़े प्रश्न हों तो उन्हें edit@prabhasakshi.com पर भेज सकते हैं। प्रभासाक्षी के लोकप्रिय कॉलम 'आर्थिक विशेषज्ञ की सलाह' में इस सप्ताह पढ़ें शेयर बाजार में निवेश से जुड़े सवालों के अलावा एफडी, जीएसटी और बीमा संबंधी पाठकों के प्रश्नों के उत्तर।

प्रश्न-1. भारत 22 ईटीएफ क्या है? इसमें कैसे निवेश किया जा सकता है?
 
उत्तर- भारत 22 ईटीएफ फंड के द्वारा भारतीय सरकार विचार कर रही है 8000 करोड़ रुपये तक के शेयर बेचने के लिए। यह फंड कई सारी कंपनियां रखती हैं। निवेशक किसी भी अन्य आईपीओ (IPO) की तरह ही इसमें भी निवेश कर सकते है।
 
प्रश्न-2. क्या कहीं से यह जानकारी ऑनलाइन मिल सकती है कि अगले छह महीने में कौन-कौन से आईपीओ आने वाले हैं?
 
उत्तर- कौन-कौन से आईपीओ आने वाले हैं यह जानकारी ऑनलाइन जानने के लिए आप यहां बताई गई वेबसाइटों पर जाएँ-
 
http://www.moneycontrol.com/ipo
 
http://www.bseindia.com/markets/PublicIssues/IPOIssues_new.aspx?id=1&Type=p
 
https://www.nseindia.com/products/content/equities/ipos/homepage_ipo.htm
 
प्रश्न-3. क्या किसी के नाम से एफडी बनवा कर उसे उपहार स्वरूप दी जा सकती है? यदि हाँ तो ऐसे में दस्तावेज किस व्यक्ति के लगेंगे?
 
उत्तर- हां, एफडी बनवा कर उसे उपहार स्वरूप में आप किसी को भी दे सकते हैं, इसके लिए जिस व्यक्ति को आप यह एफडी उपहार स्वरूप दे रहे है उस व्यक्ति के दस्तावेज लगेंगे।
 
प्रश्न-4. किसी कंपनी के शेयर में पैसा लगाते समय किस सबसे महत्वपूर्ण बात पर गौर करना चाहिए?
 
उत्तर- किसी कंपनी के शेयर में पैसा लगाते समय आपको कई बातों पर गौर करना चाहिए, जैसे कि प्रमोटरों का ट्रैक रिकॉर्ड, कंपनी की वित्तीय स्थिति, बुक वैल्यू, बाजार मूल्य, ईपीओ मूल्य, ऑडिटर की योग्यता और कंपनी के विकास की संभावनाएं।
 
प्रश्न-5. हमारे बिल्डर ने मेंटनेंस चार्ज पर जीएसटी लगाया और बिल में अन्य मदों के साथ मेंटनेंस को क्लब करते समय पूरी राशि पर फिर से जीएसटी लगा दिया। क्या यह सही है?
 
उत्तर- मेंटनेंस चार्ज पर जीएसटी लगाने के बाद बिल पर फिर से जीएसटी लगाना सही नहीं है, यह बिल्डर ने गलत किया है, वह उसी मेंटनेंस चार्ज पर दोबार (GST) जीएसटी नहीं लगा सकते, आपको बिल्डर को इस बारे में सूचित करना चाहिए और बिल में सुधार करने का निवेदन भी करना चाहिए।
 
प्रश्न-6. क्या किसी कंपनी की ओर से कर्मचारी को दिये जाने वाले एक्स ग्रेशिया की राशि पर भी टैक्स देना पड़ता है?
 
उत्तर- हां, कंपनी की ओर से कर्मचारी को दिये जाने वाले एक्स ग्रेशिया की राशि भी वेतन का हिस्सा है, और टैक्स इस पर भी लागू होता है।
 
प्रश्न-7. किस बीमा कंपनी का रिटायरमेंट प्लान सबसे सही है?
 
उत्तर- यह आपकी जरूरत पर निर्भर करता है कि आप को किस बीमा कंपनी के रिटायरमेंट प्लान का चयन करना है। आपको यह चयन comprehensive pension plan जोकि गारंटीड मैचयुरिटी बेनीफिट के साथ होता है, या फिर जीरो रिटर्न सारे प्रीमियम पर। मगर टैक्स बेनीफिट के साथ हो तो यह एक अत्यंत महत्वपूर्ण निवेश होगा।
 
प्रश्न-8. क्या क्रेडिट कार्ड के भारी भरकम बिल को चुकाने के लिए पसर्नल लोन लेना सही विकल्प है?
 
उत्तर- अगर आप के पास कोई अन्य विकल्प नहीं है तब बैंक से पर्सनल लोन लेना एक अच्छा विकल्प हो सकता है, नहीं तो ईएमआई का विकल्प ठीक है जोकि क्रेडिट कार्ड कंपनी ने दी है।
 
प्रश्न-9. टीडीएस कम कटे इसके लिए क्या करना चाहिए?
 
उत्तर- यदि आप वेतनभोगी व्यक्ति हैं तो अपको यह सुनिश्चित होना चाहिए कि आप सभी योग्य फायदे का लाभ ले रहे हैं जो आपको मिल सकते हैं। इनकम टैक्स कम करने के लिए 80 सी, 80 डी, एचआरए, एलटीए कन्सेशन इत्यादि के तहत लाभ ले सकते हैं।
 
प्रश्न-10. रिटायरमेंट के बाद के लिए मुझे यूलिप में निवेश करना चाहिए या फिर म्युचुअल फंड ठीक रहेंगे?
 
उत्तर- यूलिप इंश्योरेंस प्रोडक्ट होने के बावजूद निवेशक को खतरे में डाल देता है क्योंकि यह मार्केट लिंक पॉर्टफोलिओ है, इसकी तुलना में म्युचुअल फंड पूरी तरह से एक निवेश करने योग्य फंड है। 
 
नोटः कर से जुड़े हर मामले चूँकि भिन्न प्रकार के होते हैं इसलिए संभव है यहाँ दी गयी जानकारी आपके मामले में सटीक नहीं हो इसलिए अपने विशेषज्ञ की सलाह भी ले लें।

Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.