Prabhasakshi
रविवार, मई 27 2018 | समय 05:09 Hrs(IST)

विशेषज्ञ राय

जानिये इस बार के बजट में क्या मिली राहत? कैसे बचा सकते हैं टैक्स?

By प्रभासाक्षी न्यूज नेटवर्क | Publish Date: Feb 4 2018 10:10AM

जानिये इस बार के बजट में क्या मिली राहत? कैसे बचा सकते हैं टैक्स?
Image Source: Google

पाठकों के प्रश्नों का उत्तर दे रहे हैं द्वारिकेश शुगर इंडस्ट्रीज लिमिटेड के पूर्णकालिक निदेशक व कंपनी सचिव श्री बी.जे. माहेश्वरी जी। श्री माहेश्वरी पिछले 33 वर्षों से कंपनी कानून मामलों, कर (प्रत्यक्ष व अप्रत्यक्ष) आदि मामलों को देखते रहे हैं। यदि आपके मन में भी आर्थिक विषयों से जुड़े प्रश्न हों तो उन्हें edit@prabhasakshi.com पर भेज सकते हैं। भारत के प्रमुख हिंदी समाचार पोर्टल प्रभासाक्षी.कॉम के लोकप्रिय कॉलम 'विशेषज्ञ की सलाह' में इस सप्ताह जानिये वित्त वर्ष 2018-19 के लिए आये केंद्रीय बजट से जुड़े पाठकों के विभिन्न प्रश्नों के उत्तर।

प्रश्न-1. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा है कि बजट में मध्य वर्ग को राहत दी गयी है लेकिन आंकड़ों को देखकर ऐसा लग नहीं रहा। हम आपसे जानना चाहते हैं कि सैलरी क्लास को क्या राहत मिली है?
 
उत्तर. बजट 2018-19 में सेलरी क्लास को निम्न राहत दी गयी हैं-
 
(1) स्टैण्डर्ड डिडक्शन के तौर पर 40000/- की छूट दी है और इसकी एवज में ट्रांसपोर्ट अलाउंस 19200/- रुपए प्रतिवर्ष एवं मेडिकल रिम्बर्समेंट 15000/- रुपए प्रतिवर्ष निकाल दिया गया है। इसलिए नेट छूट 5800/- रुपये की ही मिली है। इसके आलावा सेस जो पहले 3% था उसे बढ़ाकर 4% कर दिया गया है/ जिससे राहत ना के बराबर हो गई है।
 
प्रश्न-2. बजट में इस बार कौन-कौन से नये कर या सेस लगाये गये हैं?
 
उत्तर. बजट में इस बार Educaton cess जो 3% था उसे बढ़ाकर 4% कर दिया गया है और उसका नाम health और Education Cess होगा।
 
प्रश्न-3. मेडिक्लेम पर अब कितनी राशि तक छूट मिलेगी?
 
उत्तर. मेडिक्लेम पर अधिकतम छूट 50000/- रुपए की गई है जोकि वरिष्ठ नागरिकों को ही मिलेगी इसके आलावा और कोई परिवर्तन नहीं है।
 
प्रश्न-4. बजट से वरिष्ठ नागरिकों को क्या-क्या लाभ मिले हैं?
 
उत्तर. बजट में वरिष्ठ नागरिकों को निम्न लाभ मिले हैं:
(1) पेंशन पाने वाले व्यक्ति को स्टैण्डर्ड डिडक्शन की छूट 40000/- रुपए तक की गयी है।
(2) ब्याज से मिलने वाली छूट- जो ब्याज बैंकों के fixed Deposit, Post Office Saving और Coperative Society से मिलता हो उस ब्याज पर 50000/- रुपए की छूट दी गयी है।
(3) उपरोक्त ब्याज पर कोई TDS नहीं कटेगा।
 
प्रश्न-5. स्वरोजगार करने वालों को इस बजट से क्या लाभ मिला है?
 
उत्तर. स्वरोजगार करने वालों को इस बजट में कोई लाभ नहीं मिला है बल्कि उन्हें Education Cess बढ़ाकर 4% का देना होगा जोकि पहले 3% होता था।
 
प्रश्न-6. सरकार बजट में जो नई बीमा योजना लाई है उसका फायदा हमें कैसे मिल सकता है?
 
उत्तर. सरकार ने National Health Policy के अन्तर्गत 150000/- केंद्र और खोलने की बात कही है। इसके लिए सरकार ने 1200/- करोड़ रुपए अलग से रखा है। सरकार ने 10 करोड़ गरीब जनता व उनके परिवार को 5 लाख रुपए तक की medical policy देने की बात कही है। गरीब जनता इस नयी योजना का फायदा उठा सकती है।
 
प्रश्न-7. आयुष्मान भारत योजना के तहत इलाज का खर्च कैसे मिल सकता है?
 
उत्तर. आयुष्मान भारत योजना के तहत इलाज का खर्च कैसे मिल सकता है इसके लिए सरकार की तरफ से detailed guideline का इंतजार कर सकते हैं।
 
प्रश्न-8. क्या लघु उद्योगों को भी बजट में कोई राहत दी गयी है?
 
उत्तर. हाँ, इस बजट में लघु उद्योग जिनकी Turnover 250 करोड़ रुपए तक है उन्हें Corporate tax घटे हुए rate यानि की 25% से देना होगा उसके अलावा कुछ उद्योगों में सरकार ने Income tax की 100% छूट दी है। जैसे कि Footwear और Leather Products Industry को इस छूट में शामिल किया गया है।
 
प्रश्न-9. शिक्षा उपकर में वृद्धि किन-किन चीजों के बिल पर लागू होगी?
 
उत्तर. शिक्षा उपकर वृधि सभी आय पर लागू होगी जहां-जहां Direct Tax लागू होगा।
 
प्रश्न-10. बैंक से होने वाली ब्याज की आय कितनी राशि तक करमुक्त है?
 
उत्तर. Saving बैंक से मिलने वाली ब्याज की रकम 10000/- रुपया तक करमुक्त है। इसके अलावा इस बजट में एक अलग प्रावधान वरिष्ठ नागरिकों के लिए किया गया है जिसमें बैंकों में FD से होने वाले ब्याज, Post Office savings व Coperative society से मिलने वाला ब्याज 50000/- तक की मिलने वाली रकम को कर मुक्त करने का प्रावधान दिया गया है।

नोटः कर से जुड़े हर मामले चूँकि भिन्न प्रकार के होते हैं इसलिए संभव है यहाँ दी गयी जानकारी आपके मामले में सटीक नहीं हो इसलिए अपने विशेषज्ञ की सलाह भी ले लें।

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.