Prabhasakshi
रविवार, जून 24 2018 | समय 18:23 Hrs(IST)

साहित्य जगत

रसगुल्ला युद्ध का मीठा समाधान (व्यंग्य)

By विजय कुमार | Publish Date: Nov 21 2017 11:08AM

रसगुल्ला युद्ध का मीठा समाधान (व्यंग्य)
Image Source: Google

कल सुबह शर्मा जी पार्क में घूमने आये, तो उनके हाथ में कोलकाता के प्रसिद्ध हलवाई के.सी. दास के रसगुल्लों का एक डिब्बा था। उन्होंने सबका मुंह मीठा कराया और बता दिया कि सरदी बढ़ गयी है। अतः फरवरी के अंत तक सुबह घूमना बंद। इसलिए ये रसगुल्ला सुबह की सैर से विदाई की मिठाई है। 

वैसे मिठाई तो स्वागत में खिलाई जाती है, विदाई में नहीं; पर जब मुफ्त में मिल रही हो, तो खा लेना ही ठीक था। इसलिए किसी ने एक लिया, तो किसी ने दो। रसगुल्ला खाया, तो फिर मीठी चर्चा होनी ही थी। बात बंगाल और उड़ीसा में रसगुल्ले पर अधिकार के लिए हुए विवाद पर छिड़ गयी।
 
- क्यों शर्मा जी, सब लोग इसे हमेशा से बंगाली रसगुल्ला ही कहते हैं। फिर ये उड़ीसा वाले इसमें कैसे घुस गये ?
- ये तुम नवीन पटनायक से पूछो। उड़ीसा वाले कहते हैं कि भगवान जगन्नाथ रथ यात्रा पर अपने साथ लक्ष्मी जी को नहीं ले गये थे। इससे वे नाराज हो गयीं। जब भगवान लौटे, तो लक्ष्मी जी ने घर का दरवाजा नहीं खोला। तब उन्होंने देवी जी को खुश करने के लिए उन्हें रसगुल्ला भेंट किया। यह त्योहार वहां ‘नीलाद्री वीजे’ के नाम से पिछले हजारों सालों से मनाया जाता है। इसलिए उड़ीसा वाले इसे अपना मानते हैं।
- और ममता दीदी क्या कहती हैं ?
- उनका कहना है कि इसका आविष्कार 150 साल बंगाल में ही हुआ। इसमें जिन गायों के दूध से छेना बनता है, उन्हें विशेष प्रकार का चारा खिलाते हैं। फिर उसके दूध से बने नरम और मुलायम छेने से ये बंगाली रसगुल्ला बनता है; पर अब इसकी प्रसिद्धि का लाभ उठाने के लिए हर हलवाई बंगाली रसगुल्ला बना रहा है। 
- तो इस पर किसी का पेटेंट है क्या ?
- पेटेंट तो नहीं है; पर इसके आविष्कारक परिवार का कहना है कि इसे बनाने की खास तकनीक हमारे खानदान वाले ही जानते हैं। आजकल तो लोगों को पनीर और छेने का अंतर ही नहीं पता। हजारों हलवाई भैंस के दूध से छेना बना रहे हैं और रसगुल्ले का वजन बढ़ाने के लिए उसमें मैदा डाल देते हैं। इससे तो बंगाली रसगुल्ले की बदनामी हो रही है।
- हां, ये तो गलत है शर्मा जी; पर मैंने सुना है कि 150 साल पहले तो बंगाल बहुत बड़ा था। वर्तमान बंगलादेश, असम, मेघालय, त्रिपुरा, मणिपुर, मिजोरम, अरुणाचल, नगालैंड, उड़ीसा, झारखंड, थोड़ा सा बिहार और आज का कुछ बर्मा..सब मिलाकर बंगाल था। ऐसे में इस रसगुल्ले का आविष्कार बंगाल के किस भाग में हुआ, ये कौन बता सकता है ? हो सकता है, जिसे आज उड़ीसा कहते हैं, वहीं ये जन्मा हो। इस नाते नवीन पटनायक का दावा भी गलत नहीं है।  
- ये तो तुमने बहुत मार्के की बात कही है वर्मा; लेकिन इस विवाद को शांत करने का तरीका क्या है ?
- बहुत सरल तरीका है। एक गोली से ही कई बीमारियों का सदा के लिए अंत हो जाएगा।
- तो तुम्हारे मुंह में एक दर्जन रसगुल्ले। जल्दी बताओ, देर क्यों कर रहे हो ?
- देखिये शर्मा जी, नवीन बाबू भी अकेले हैं और ममता जी भी। ये दोनों अपने-अपने राज्य में मुख्यमंत्री तो बन गये हैं; पर इससे आगे, यानि प्रधानमंत्री नहीं बन सकते। इसलिए अब इन दोनों को एक हो जाना चाहिए।
- यानि राजनीतिक गठबंधन कर लेना चाहिए?
- राजनीतिक नहीं, जीवन भर के लिए स्थायी गठबंधन।
- यानि शादी... ?
- जी हां, इससे ये दोनों सुखी रहेंगे। और शादी की दावत में केवल रसगुल्ले परोसे जाएं। दोनों एक दूसरे को रसगुल्लों की माला पहनाएं। विदेशों में जैसे टमाटर युद्ध होता है, वैसे ही वर और कन्या पक्ष में रसगुल्ला युद्ध हो। फिर देखिये, ये विवाद कैसे शांत होता है।
- ये तो बड़ा धांसू आइडिया है वर्मा। इस विवाह से जो नव निर्माण होगा, वह रसगुल्ला हो या रसगुल्ली; पर चीज कमाल की होगी।
- लेकिन इसके साथ एक आइडिया और भी है। यह शादी नरेन्द्र मोदी की अध्यक्षता में हो। अटल जी तो अब आने लायक नहीं रहे; पर राहुल बाबा, मायावती, मनोहर लाल खट्टर और योगी आदित्यनाथ को भी विशेष अतिथि के नाते जरूर बुलाया जाए। इस तरह रसगुल्ले की चाशनी में जो राजनीतिक खिचड़ी पकेगी, वह लाजवाब होगी।    
यह सुनते ही शर्मा जी ने रसगुल्लों का खाली डिब्बा मेरे मुंह पर दे मारा और गाली बकते हुए पार्क से बाहर निकल गये। 
 
-विजय कुमार

रहना है हर खबर से अपडेट तो तुरंत डाउनलोड करें प्रभासाक्षी एंड्रॉयड ऐप



Disclaimer: The views expressed here are solely those of the author in his/her private capacity and do not necessarily reflect the opinions, beliefs and viewpoints of Prabhasakshi and do not in any way represent the views of Prabhasakshi.

शेयर करें: